DEFENCE

भारतीय रक्षा उत्पादों में रूचि दिखा रहे हैं कई देश : निर्मला सीतारमण

नई दिल्ली। केंद्रीय रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने सोमवार को एक कार्यक्रम में कहा कि कई देशों ने भारतीय मिसाइलों में अपनी रुचि दिखाई है। इनमें से वियतनाम भारत से ब्रह्मोस मिसाइल खरीदना चाहता है। रक्षा मंत्री के मुताबिक भारत भी अपने प्रक्षेपास्त्र मित्र देशों को बेचना चाहता है।





रक्षा उत्पादों की क्षमता से विदेशी बाजार को कराया जाए अवगत

देश की रक्षामंत्री सोमवार को भारतीय उद्योग परिसंघ (सीआईआई) के एक कार्यक्रम में शामिल हुईं थीं जहां अपने संबोधन में उन्होंने ये बात कही। उनका कहना था कि ‘भारतीय मिसाइलों में दुनिया के कई देशों की रुचि निश्चित रूप से बढ़ी है। हम इस ओर ध्यान दे रहे हैं।

उन्होंने कहा ”मैं भारतीय दूतावास व उच्चायोगों में तैनात ‘डिफेंस अटैची’ को निर्देश देने जा रही हूं कि वे भारतीय रक्षा उत्पादों की क्षमता एवं विशेषज्ञता से विदेशी बाजार को अवगत कराएं। उनके मुताबिक (डिफेंस अटैची) को इस बात के प्रचार के लिए विशेष प्रयास करने चाहिए कि भारतीय रक्षा उत्पादक देश की सेना की मारक क्षमता बढ़ाने के लिए कौन-कौन से कदम उठा रहे हैं। किस-किस तरह के मारक हथियारों का निर्माण किया है।’

डिफेंस अटैची इस दिशा में कर सकते हैं बेहतर प्रयास 

निर्मला सीतारमणके अनुसार, ‘ऐसा करने से भारतीय रक्षा उत्पादों के प्रति कई देशों की रुचि बढ़ेगी। बिना किसी मार्केटिंग एक्सपर्ट के हमारा रक्षा बाजार भी बढ़ेगा।’ दुनिया के अधिकतर देश अपने दूतावास या उच्चायोग में सेना के एक वरिष्ठ अधिकारी को डिफेंस अटैची के रूप में तैनात करता है। जिसका मुख्य कार्य देश के रक्षा-हितों का ख्याल रखना होता है। भारत ने भी अपने दूतावासों में वरिष्ठ सैन्य अधिकारियों की तैनाती ‘डिफेंस अटैची’ के रूप में की हुई है।

Comments

Most Popular

To Top