DEFENCE

चीन की नई चाल, भारत के एकदम करीब करेगा नौसेना अभ्यास

नई दिल्ली। भारत को घेरने की कोशिश में लगे चीन की नजर अब मलयेशिया पर है। चीन मलयेशिया के निकट स्ट्रेट ऑफ मलाक्का द्वीप में शनिवार (20 अक्टूबर) से नौ दिन का संयुक्त नौसेना अभ्यास शुरू करने वाला है। मलयेशिया और थाइलैंड भी इस अभ्यास में शामिल होंगे। स्ट्रेट ऑफ मलाक्का द्वीप भारत के निकोबार द्वीप से सिर्फ एक हजार किलोमीटर की दूरी पर है।





मलयेशिया का इस अभ्यास में शामिल होना भारत के लिए झटका माना जा रहा है। गौरतलब है कि कुछ ही महीने पहले मलयेशिया ने भारत के साथ सैन्य अभ्यास किया था।

मीडिया खबरों के मुताबिक चीन इस अभ्यास के लिए लाव-लश्कर के साथ आ रहा है। इस अभ्यास में चीन के 3 युद्धपोत, जहाज से उड़ान भरने वाले दो हेलिकॉप्टर, 3 IL-76 ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट भाग लेंगे। इतना ही नहीं इस अभ्यास के लिए चीन के 692 जवान भी आएंगे। चीन ने इस अभ्यास को पीस एंड फ्रेंडशिप 2018 नाम दिया है और उसका दावा है कि यह अभ्यास साउथ चाइना सी क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए किया जा रहा है। यह अलग बात है कि अभ्यास के लिए चुना गया स्थान साउथ चाइना सी में नहीं आता बल्कि अंडमान सागर को साथ चाइना सी से जोड़ता है। यह स्थान मलयेशिया, इंडोनेशिया और थाइलैंड को जोड़ता है। गौरतलब है कि 500 मील का यह फैलाव महत्वपूर्ण व्यापार मार्ग है। भारत और आसियान देशों के व्यापार के साथ चीन के जहाज भी आने-जाने के लिए इस रास्ते का इस्तेमाल करते हैं।

जानकारों का मानना है कि चीन ने भले ही इस अभ्यास को पीस एंड फ्रेंडशिप 2018 नाम दिया है लेकिन उसका मकसद क्षेत्र में अपना रुतबा बनाना है। गौरतलब है साउथ चाइना सी में उसकी बाकी देशों से तनातनी की खबरें आती रहती हैं। वह फिलीपींस और वियतनाम को अपना रौब दिखाने की कोशिश करता रहता है और क्षेत्र पर अपना दावा जताता रहता है।

 

Comments

Most Popular

To Top