DEFENCE

भारत की उपग्रह रोधी मिसाइल ASAT का अमेरिका ने किया समर्थन

एंटी सेटेलाइट मिसाइल
फाइल फोटो

वाशिंगटन। भारत के अंतरिक्ष में ASAT के परीक्षण को लेकर अब अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन ने भारत का बचाव किया है। पेंटागन ने कहा है कि भारत ने अंतरिक्ष में बढ़ते खतरों और चुनौतियों के मद्देनजर परीक्षण किया था। 27 मार्च को भारत ने लो ऑर्बिट में मिसाइल से सेटेलाइट मार गिराकर अंतरिक्ष की दुनिया में इतिहास रच दिया था।





खास बात यह है कि अमेरिका का यह बयान उस वक्त आया है कि जब अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने भारत के इस कदम की निंदा की थी। उसने भारत के इस परीक्षण को लेकर कहा था कि इससे अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन को खतरा है।

उल्लेखनीय है कि DRDO ने 27 मार्च को एंटी सैटेलाइट मिसाइल का परीक्षण किया था। भारत ने अंतरिक्ष में मार करने वाली मिसाइल से अपने ही एक उपग्रह को हवा में नष्ट कर दिया था। इस टेस्ट के साथ ही भारत इस तरह की तकनीकी क्षमता हासिल करने वाला दुनिया का चौथा मुल्क बन गया था। फिलहाल दुनिया में इस प्रकार की क्षमता केवल तीन ही देश को हासिल है। इस कड़ी में भारत अमेरिका, रूस और चीन के बाद चौथा देश बन गया।

अमेरिका कूटनीतिक कमान के कमांडर जनरल जॉन ई हीतेन ने सीनेट की सशस्त्र सेवा कमेटी से कहा कि मुझे लगता है कि भारत ने देश के समक्ष आ रही चुनौतियों तथा खतरों को देखते हुए यह कदम उठाया है। उन्होंने अंतरिक्ष में फैले मलबे के प्रश्न पर कहा कि भारत के पास भी अपना बचाव करने की क्षमता होनी चाहिए। यह उसका हक है।

Comments

Most Popular

To Top