DEFENCE

लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर के ढांचे के लिए रक्षा कवच तैयार

नई दिल्ली। डीआरडीओ के सहायक संगठन डिफेंस मैटीरियल्स एंड स्टोर्स रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट (DMSRDE) ने लाइट कॉम्बैट हेलिकॉप्टर के ढाँचे के लिए विशेष रक्षा कवच तैयार किया है। यह कवच 636±5 m/s की गति से आ रही 7.62 मिमी एपीआई गोली को झेल सकता है।





इसका परीक्षण वारणगाँव स्थित ऑर्डनेंस फैक्ट्री में किया गया। इस परीक्षण में 703±5 m/s की गति से आती 12.7 मिमी एपीआई का प्रहार भी इस कवच पर देखा गया। दोनों परीक्षणों में यह कवच सफल साबित हुआ। यह कवच एलसीएच को सुरक्षित रखने के लिए तैयार किया गया है।

साल 1999 में हुए कारगिल युद्ध के समय भारत के सामने दिक्कतें आई थीं, क्योंकि दुश्मन ऊंचाई पर था। देश के पास लाइट कॉम्बेट हेलिकॉप्टर न होने की वजह से काफी खामियाजा भुगतना पड़ा। एलसीएच में इंस्टॉल एयर टू ग्राउंड मिसाइलों की रेंज आठ किमी तक है और यह मिसाइल अपने लक्ष्य को पूरी ताकत के साथ भेद डालती है। भारत को पिछले कई वर्षों से एक ऐसी हेलिकॉप्टर की कमी खल रही थी। हालांकि एचएएल ने ध्रुव और रुद्र जैसे हल्के हेलिकॉप्टर भी तैयार किए हैं लेकिन एलसीएच उनसे अलग है।

Comments

Most Popular

To Top