DEFENCE

रक्षामंत्री ने संभाला पदभार, कहा- सैनिक कल्याण पर देंगी जोर

नई दिल्ली। देश की पहली महिला रक्षा मंत्री के रूप में निर्मला सीतारमण ने पदभार संभाल लिया है। राजधानी के रायसीना हिल्स पर साउथ ब्लॉक में वित्त मंत्री अरूण जेटली ने उन्हें रक्षा मंत्री का पदभार सौंपा। मीडिया को संबोधित करते हुए निर्मला सीतारमण ने कहा कि वे रक्षा मंत्री के तौर पर सेनाओं के आधुनिकिरण और सैनिकों के कल्याण के लिए काम करेंगी। उन्होंने यह भी सुनिश्चित किया कि वह पूर्व सैनिकों, विधवाओं और आश्रित सैनिकों को अनुदान देंगी।





खबरों के मुताबिक पदभार संभालने के तुंरत बाद ही निर्मला सीतारमण रक्षा मंत्रालय के नजदीक डीआरडीओ हेडक्वार्टर में केन्द्रीय पुलिसबलों को जरूरी साजो-सामान देने के एक कार्यक्रम में पहुंचीं। साजो-सामान में हथियार, राइफल, बुलेट-प्रूफ जैकैट, बुलेट-प्रुफ बस, आदि शामिल हैं जो भारत में ही ‘मेक इन इंडिया’ के तहत तैयार की गई हैं। इस कार्यक्रम में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने भी शिरकत की। कार्यक्रम में बोलते हुए उन्होनें आगे भी ‘मेक इन इंडिया’ के तहत निर्माण पर जोर दिया।

ट्विटर पर भी दिखाई उपस्थिति

सीतारमण के रक्षा मंत्री बनते ही ट्विटर पर रक्षा मंत्रालय की एंट्री हो गई है। खास बात यह है कि रक्षा मंत्री का अकाउंट रोमन लिपि में हिंदी (Raksha Mantri) में लिखा गया है। अभी तक ट्विटर पर किसी भी मंत्रालय का नाम हिंदी या रोमन हिंदी में नहीं था।

गौरतलब है कि इससे पहले तक निर्मला सीतारमण केन्द्र में ही वाणिज्यिक मंत्रालय का स्वतंत्र पदभार संभाल रही थीं। 70 के दशक के मध्य में और एक बार 1980-82 तक तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने भी रक्षा मंत्रालय का अतिरिक्त पदभार संभाला था, लेकिन ये पहली बार हुआ है कि देश को एक  महिला रक्षा मंत्री मिली हैं। निर्मला सीतारमण ने कहा था कि रक्षा मंत्री के तौर देश की सेवा करने का मौका मिलेगा जो एक बड़ी बात है। सीतारमण अब सुरक्षा मामलों पर महत्वपूर्ण मंत्रिमंडलीय समिति की सदस्य होंगी। इस समिति में रक्षा मंत्री के अलावा प्रधानमंत्री, गृह मंत्री, विदेश मंत्री और वित्त मंत्री होते हैं।

Comments

Most Popular

To Top