DEFENCE

आतंकवाद से मुकाबले के लिए भारतीय सेना होगी और मजबूत, 2420 करोड़ के कॉन्ट्रैक्ट्स को हरी झंडी

नौसेना के लिए निगरानी विमान 'पी8- आई' ट्रेनिंग के लिए खरीदे जाएंगे

नई दिल्ली। थल सेना के लिए संचार उपकरण और नौसेना के लिए निगरानी विमान ‘पी8- आई’ की ट्रेनिंग के लिए सॉल्यूशन खरीदे जाएंगे। नौसेना के पायलट के लिए 1949.32 करोड़ की लागत से सॉल्यूशन अमेरिका के बोइंग कंपनी से लिए जाएंगे। नौसेना के अलावा थल सेना के लिए 470 करोड़ की लागत से अपग्रेड संचार उपकरण लिए जाएंगे जिससे कि भारतीय सेना आतंकियों के पास मौजूद नए टेक्नोलॉजी वाले हथियारों से मुकाबला कर सके। इस संचार प्रणाली को कश्मीर में LoC पर लगाए जाने की संभावना है।





कम खर्च और बेहद आसान हो जाएगी ट्रेनिंग

निगरानी विमान के जरिए ट्रेनी पायलट को लाइव एयरक्राफ्ट के बजाय सिम्युलेटर पर ट्रेनिंग दी जाएगी। इसलिए साल्यूशन खरीदने का फैसला लिया गया है। इससे ट्रेनिंग में कम खर्च आएगा और बेहद आसान भी होगा। मालूम हो कि नौसेना में समुद्र में लंबी दूरी तक निगरानी रखने के लिए 2013 से ‘पी- 8आई’ विमान है। समुद्र के काफी अंदर गश्त लगा रही दुश्मन की पनडुब्बी का पता लगा पाने में भी यह सक्षम है। अभी नेवी के पास ऐसे 08 निगरानी विमान हैं और चार नए लेने के लिए ऑर्डर दिए गए हैं। इससे पहले 02 जनवरी को भारतीय वायुसेना के लिए स्मार्ट बम और नौसेना के लिए बराक मिसाइल खरीद के लिए भी मंजूरी दी गई थी।

 

Comments

Most Popular

To Top