DEFENCE

DAC ने रक्षा बलों के लिए उपकरणों की खरीद को दी हरी झंडी

रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण
रक्षा

नई दिल्ली। रक्षा मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में सोमवार को रक्षा अधिग्रहण परिषद (डीएसी) की बैठक हुई। डीएसी ने रक्षा बलों के लिए 6,900 करोड़ से अधिक के उपकरण खरीद को मंजूरी दे दी है।





स्वदेशीकरण को भारी प्रोत्साहन देते हुए और भारत की बढ़ती तकनीकी शक्ति को स्वीकार करते हुए रॉकेट लॉन्चर के लिए थर्मल इमेजिंग (टीआई) नाइटसाइट्स की खरीद ‘बाय (इंडियन) आईडीडीएण श्रेणी के अंतर्गत स्थापित भारतीय वेंडरों के माध्यम से की जाएगी। इसका इस्तेमाल थलसेना और वायुसेना द्वारा किया जाता है और 84MM रॉकेट लॉन्चर के लिए टीआई साइट का इस्तेमाल टुकड़ियों द्वारा दुश्मन के सक्रिय और स्थिर लक्षों पर सटीक निशाना साधने और पूरी तरह अंधकार के दौरान दुश्मन के बंकरों का धवस्त करने में किया जाता है। यह साइट अपनी टुकड़ियों को शत्रुओं के टैंकों की खोज करने और पहचानने तथा रात के समय सैनिकों की गतिविधियों में सहायक होगा। यह छद्म रूप से छिपने और पनाह लेने में कमी लाएगा, क्योंकि रॉकेट लॉन्चर के डिटेचमेंट शत्रु के छिपे हुए स्थान का पता लगाने में सक्षम होंगे।

डीएसी ने ‘मेक II’ उपश्रेणी के अंतर्गत एसयू- 30 एमकेआई विमान के लिए लंबी दूरी की डुअल बैंड इंफ्रारेड इमेजिंग सर्च एंड ट्रैक सिस्टम (आईआरएसटी) के डिजाइन और विकास की स्वीकृति दी और बाद में ‘बाय (इंडियन) आईडीडीएण श्रेणी के अंतर्गत 100 आईआरएसटी खरीद के लिए स्वीकृति दी। यह प्रणाली दिन और रात दोनों समय कार्य करेगी और विमानों की क्षमता में वृद्धि करेगी।

इन मंजूरी के साथ अकेले पिछले 08 महीनों में डीएसी ने पूरे उत्साह के साथ सशस्त्र बलों के आधुनिकीकरण के काम को आगे बढ़ाया है और स्वदेशीकरण पर बल दिया है। लगभग 43,844 करोड़ रुपये मूल्य के उपकरण खरीद को मंजूरी दी गई है, जिसमें से 32,253 करोड़ रुपये के उपकरण भारत में बनाए जाएंगे।

Comments

Most Popular

To Top