DEFENCE

घटिया गोला-बारूद से बढ़ती दुर्घटनाओं पर सेना ने जताई चिंता

होवित्जर
फाइल फोटो

नई दिल्ली। भारतीय सेना ने घटिया गोला-बारूद और युद्ध उपकरणों से फील्ड में बढ़ती दुर्घटनाओं पर चेतावनी दी है। यह गोला-बारूद सरकार के स्वामित्व वाले ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड द्वारा टैंक, तोपों, एयर डिफेंस गन और अन्य युद्ध उपकरणों के लिए सप्लाई किया जाता है। इस संबंध में सेना ने रक्षा मंत्रालय से बात की है। सेना ने बताया है कि घटिया क्वॉलिटी के गोला-बारूद के कारण होने वाली दुर्घटनाओं में सैनिकों की जानें जा रही हैं, सैनिक घायल हो रहे हैं और इससे रक्षा उपकरणों को भी नुकसान पहुंच रहा है।





सूत्रों के मुताबिक, ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड द्वारा सप्लाई किए गए गोला-बारूद के कारण बढ़ती दुर्घटनाओं के कारण सेना का भरोसा अपने रक्षा उपकरणों पर कम हो रहा है। सेना ने ऑर्डनेंस फैक्ट्री द्वारा गोला-बारूद के क्वॉलिटी में अपेक्षित ध्यान नहीं दिए जाने के संबंध में रक्षा उत्पादन सचिव अजय कुमार के समक्ष गंभीर चिंता जाहिर की है।

बता दें कि 19 हजार करोड़ रुपयों के सालाना टर्नओवर वाले ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड के पास गोला-बारूद बनाने वाली कुल 41 फैक्ट्री हैं जो 12 लाख सैनिकों वाली भारतीय सेना को गोला-बारूद की सप्लाई करने वाला मुख्य स्रोत है। सूत्रों ने बताया कि ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड के गोला-बारूद की क्वॉलिटी में गिरावट से देश की युद्ध क्षमताओं पर गहरा असर पड़ता है। सेना की इस शिकायत पर रक्षा उत्पादन सचिव कुमार ने सेना से अपनी विभिन्न समस्याओं को प्रस्तुत करने को कहा है।

15 पेज के अपने पेपर में सेना ने बेहद गंभीर समस्याएं सामने रखी हैं। इसमें बताया गया है कि 105एमएम की इंडियन फील्ड गन, 105 एमएम लाइट फील्ड गन, 130 एमएम एमए1 मीडियम गन, 40 एमएम एल-70 एयर डिफेंस गन और टी-72, टी-90 और अर्जुन टैंक की तोपों के साथ नियमित तौर पर दुर्घटनाएं सामने आ रही हैं। इसके अलावा खराब क्वॉलिटी के गोला-बारूद के कुछ केस 155 एमएम की बोफोर्स तोपों के मामले में भी सामने आए हैं। सूत्रों के मुताबिक, ऑर्डनेंस फैक्ट्री बोर्ड इस समस्या को सुलझाने के प्रति गंभीर नहीं है जिसके कारण सेना ने अपने कुछ लॉन्ग रेंज के गोला-बारूद की फायरिंग रोक दी है।

Comments

Most Popular

To Top