DEFENCE

आर्मी के जवान अब चंबल में बनी बंदूकों से करेंगे दुश्मन का मुकाबला

पहली स्वदेशी हथियार फैक्ट्री

ग्वालियर/भिण्ड। पीएम नरेन्द्र मोदी के मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत देश की पहली डिफेंस वैपन फैक्ट्री मालनपुर में शुरू हुई। पुंज लॉयड और इसरायल के सहयोग से बनी भारत की पहली निजी क्षेत्र की हथियार निर्माण इकाई का उद्घाटन मुख्यमंत्री ने गुरुवार को मालनपुर में किया। इस अवसर पर इसराइल के राजदूत एच आई डेनियल भी उपस्थित थे।





मुख्यमंत्री ने कहा कि अब आर्मी के जवान चंबल में बनी बंदूकों से दुश्मन का मुकाबला करेंगे। मेक इन इंडिया के तहत यह देश की पहली फैक्ट्री है, जिसे भिण्ड जिले के मालनपुर औद्योगिक क्षेत्र में पुंज लॉयड कंपनी और इसरायल वेपन इंडस्ट्रीज की संयुक्त भागीदारी से स्थापित किया गया है। इस फैक्ट्री में स्पेशल फोर्स के हथियार बनाए जाएंगे।

पहली स्वदेशी हथियार फैक्ट्री

फैक्ट्री का उद्घाटन मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने किया

मुख्यमंत्री ने कहा कि मेक इन इंडिया से प्रेरणा लेकर हमने मेक इन मध्य प्रदेश को अपनाया है। उन्होंने कहा कि इजरायल हमारा दोस्त है और अब दोनों मिलकर आतंकवाद को कुचलेंगे और हमारे जवान देश में ही बने हथियार चलाएंगे। उल्लेखनीय है कि पिछले साल जब स्पेशल फोर्स के जवानों ने पाक अधिकृत कश्मीर में सर्जिकल स्ट्राइक करके आतंकवादियों के कैंपों को नष्ट किया था, तो उनके पास इजरायल में बनी गन, टेवोर, गैलिल थीं।

मेक इन इंडिया गन से होगी सर्जिकल स्ट्राइक

अब अगली बार स्पेशल फोर्स जब भी कभी सर्जिकल स्ट्राइक करेंगी तो उनके पास हथियार तो यही होंगे, लेकिन विदेशी नहीं, बल्कि मेड इन इंडिया होंगे। एफडीआई को आकर्षित करने वाली मध्यप्रदेश की यह पहली इकाई भी है। इसरायल वेपन इंडस्ट्रीज टेवर, यूजी और गैलिल जैसे आधुनिकतम हथियारों के निर्माण में विश्व में अग्रणी है।

ये फोर्स उपयोग करते हैं इजरायली हथियार

इस तरह के हथियार वर्तमान में भारतीय सेना के विशेष दल नौसेना, समुद्री कमांडो, तटरक्षक, वायुसेना कमांडो, सीमा सुरक्षा बल, कोबरा तथा सीआरपीएफ की विशेष इकाइयों द्वारा उपयोग में लाए जा रहे हैं।

इजरायल की कंपनी भिंड में बनाएगी पिस्टल-रिवॉल्वर

उल्लेखनीय है कि पुंज लॉयड द्वारा वर्ष 2009 से ही मालनपुर औद्योगिक क्षेत्र में रक्षा उपक्रमों का उत्पादन किया जा रहा है। इसके लिये इस कंपनी ने लगभग 350 करोड़ का निवेश किया है। इसके अलावा फायरिंग रेंज भी मालनपुर की इस यूनिट में स्थापित किया गया है।

पहली खेप जाएगी जम्मू कश्मीर

निजी क्षेत्र द्वारा रक्षा उपकरणों की यह पहली आपूर्ति होगी। जम्मू-कश्मीर, पंजाब, नेपाल तथा बांग्लादेश के सीमा क्षेत्रों के लिये फुल ट्रक बाडी स्नेकर की आपूर्ति के लिये भी गृह मंत्रालय से पुंज लॉयड करार करने जा रही है। इसके अलाव 12 देशों को उन्नत उपकरण निर्यात करने की भी योजना है। एफडीआई को आकर्षित करने वाली मध्यप्रदेश की यह पहली इकाई भी है।

Comments

Most Popular

To Top