DEFENCE

दुश्मनों के खात्मे के लिए सेना को आज मिलेगी पहली अपग्रेड ‘धनुष’ तोप

अपग्रेटेड धनुष
फाइल फोटो

कानपुर। कानपुर स्थित फील्डगन फैक्ट्री में बनी 155 एमएम कैलिबर की एडवांस धनुष तोप आज भारतीय सेना को सौंपी जाएगी। गन कैरिज फैक्ट्री (GCF) जबलपुर के जरिए सेना को दी जाने वाली यह तोप सबसे अपग्रेड वर्जन है।





यह तोप दुनिया की सर्वश्रेष्ठ तोपों के मुकाबले तकनीकी रूप से बेहतर है। यह तोप भारतीय सेना में करीब पांच वर्ष से ट्रायल पर है। सेना में इसके परीक्षण और सुझावों के बाद यह पहला अपग्रेड वर्जन है जो हर तरह की खूबियों से लैस है। इस तोप की खूबियां है- संपूर्ण इलेक्ट्रानिक कंट्रोल, आईएसएस टेक्नॉलोजी, शूट एंड स्कूट टेक्निक, नाइट विजन, नेवीगेशन सिस्टम और ऑटोमैटिक गन साइटिंग सिस्टम आदि। यह रक्षा क्षेत्र में भारत की एक बड़ी उपलब्धि है। फील्ड गन फैक्ट्री से तोप सेना को भेजी जाएगी।

धनुष तोप

ऑर्डिनेंस फैक्ट्री ने बोफोर्स से दो पीढ़ी आगे की एडवांस तोप का विकास कर लिया है। इसके विकास के बाद भारत ने दुनिया के शीर्ष तोप बनाने वाले देशों में अपना नाम दर्ज करा लिया है। नई तोप और बैरल की रेंज 42 किलोमीटर है जो दुनिया की किसी भी तोप को मुंहतोड़ जवाब देने में सक्षम है। साल 2012 में लगातार परीक्षणों में खरा उतर चुका है और अब इसे भारतीय सेना को सौंपा जाएगा।

अभी धनुष ने ही दुनियाभर में तहलका मचा रखा है। ऑर्डिनेंस फैकट्री ने इससे भी आगे बढ़कर तोप की नींव तैयार कर दी। धनुष तोप का बैरल 07 मीटर लंबा है जबकि नया बैरल आठ मीटर लंबा है। यह विश्व के सबसे लंबे बैरल वाली तोपों में से एक है। आठ मीटर लंबी तोप सिर्फ अमेरिका, इजराइल और रूस के पास है। नई तोप का बैरल परीक्षणों में खरा उतरा है। बता दें कि धनुष और एडवांस धनुष भारत की पहली तोप हैं जिसमें प्रयोग 90 फीसदी पार्ट्स देश में ही निर्मित किए गए हैं।

Comments

Most Popular

To Top