DEFENCE

वेनेज्वेला के राष्ट्रपति को भारत की बधाई, अमेरिकी विरोध के लिए जाने जाते हैं मैदूरो

वेनेज्वेला के राष्ट्रपति निकोलस मैदूरो

नई दिल्ली। लातिन अमेरिकी देश वेनेज्वेला के अमेरिका विरोधी राष्ट्रपति निकोलस मैदूरो के दोबारा चुनाव जीतने के बाद भारत ने उन्हें बधाई दी है। यहां वेनेज्वेला के राजदूत अगस्तो मोंटियल ने वेनेज्वेला के चुनाव नतीजे आने के बाद विदेश मंत्री सुषमा स्वराज से मुलाकात की। विदेश मंत्री ने राजदूत के जरिये राष्ट्रपति मैदूरो को भारत की शुभकामनाएं भेजी हैं।





राजदूत ने यहां एक बातचीत में उम्मीद जाहिर की कि राष्ट्रपति मैदूरो छह महीने के भीतर भारत का दौरा करेंगे। उन्हें पिछले मार्च में ही अंतरराष्ट्रीय सोलर अलायंस की शिखर बैठक में भाग लेने दिल्ली आना था लेकिन घरेलू व्यस्तता की वजह से अपने विदेश और वित्त मंत्री को भारत भेजा था।

उल्लेखनीय है कि अमेरिका ने वेनेज्वेला के खिलाफ आर्थिक प्रतिबंध लगाया हुआ है जिसकी वजह से अमेरिकी सुरक्षा एजेंसियों ने भारत से निर्यात हो रही औषधि के कंटेनर की सप्लाई रोक दी थी। वेनेज्वेला पर अमेरिका ने तेल निर्यात पर भी प्रतिबंध लगाया हुआ है जिसकी वजह से कोई भी देश वेनेज्यूला को अमेरिकी डॉलर में भुगतान नहीं कर सकता है। इससे बचने के लिये वेनेज्वेला ने भारत से तेल भुगतान को भारतीय रुपये में स्वीकार करना शुरू किया है और इसके लिये एक रुपया अकाउंट खोला है।

राजदूत मोंटियल ने यहां बताया कि वेनेज्वेला के पास दुनिया का सबसे बड़ा तेल भंडार है जिस पर अमेरिका कब्जा चाहता है इसलिये वह वेनेज्यूला में अपनी पिट्ठू सरकार बैठाना चाहता है। यही वजह है कि वह वेनेज्वेला के चुनाव में हस्तक्षेप करता है और अपनी पसंद की पार्टी को हर तरह का समर्थन देता है लेकिन वेनेज्वेला की जनता ने अमेरिका की इन कोशिशों को नाकामयाब कर दिया है। राजदूत ने कहा कि वेनेज्वेला के ताजा चुनाव नतीजे बताते हैं कि वेनेज्वेला की जनता ने अमेरिका के खिलाफ अपना चुनाव जीता है।

वेनेज्वेला के खिलाफ अमेरिकी प्रतिबंधों की वजह से भारत को खनिज तेल के निर्यात में गिरावट आई है। वेनेज्वेला पर लगे अमेरिकी प्रतिबंधों से बचने के लिये दोनों देशों के अधिकारी नये उपायों पर बातचीत कर रहे हैं।

Comments

Most Popular

To Top