Forces

कमांडर अभिलाष बने गोल्डन ग्लोब रेस का हिस्सा

नौसेना के कमांडर अभिलाष

नई दिल्ली। भारतीय नौसेना के कमांडर अभिलाष टॉमी गोल्डन ग्लोब रेस (GGR) में भाग ले रहे हैं। वह एशिया महाद्वीप से एकमात्र अधिकारी हैं जो इस प्रतिष्ठित रेस का हिस्सा बने हैं।





समुद्र में रेस की शुरूआत फ्रांस के Les Sables d’Olonne बंदरगाह से हुई। इसमें प्रतिभागियों को अकेले बिना रुके दुनिया की यात्रा करनी है। इस दौड़ की खासियत यह है कि नौका का डिजाइन और प्रौद्योगिकी वर्ष 1968 से पहले का है इसलिए ग्लोबल पोजिशनिंग सिस्टम (GPS), उपग्रह संचार, navigational aids आदि का उपयोग होना मना है।

Sail-Boat

कमांडर अभिलाष भारत के सबसे प्रमुख नाविकों में से एक हैं। उन्होंने भारतीय नौसेना की नौका Mhadei पर 2012-13 में 53 हजार समुद्री मील की दूरी तय की है। उन्हें कीर्ति चक्र व तेनजिंग नोर्गे पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है।

कमांडर अभिलाष भारत में निर्मित नौका सुहाली की प्रतिकृति पर नौकायन करते हुए भारत का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। गोवा में निर्मित नौका पोत थुरिया विश्व मंच पर भारत की नौका निर्माण क्षमता को प्रदर्शित करती है और मेक इन इंडिया की पहल को बढ़ावा देती है।

Comments

Most Popular

To Top