Army

‘बाॅर्डर रोड आॅर्गेनाइजेशन’ जिसने बनाई दुनिया की सबसे ऊंची सड़क,7 खास बातें

सीमा सड़क संगठन (Border Road Organization) सेना का एक सिविल इंजिनियरिंग संस्थान है जो युद्ध और शांति काल में भारत को इंजिनियरिंग सेवा मुहैया कराता है। 7 मई, 1960 को बीआरओ की स्थापना उत्तरी और पूर्वोत्तर क्षेत्र के सीमा क्षेत्रों में सड़कों के जल्द निर्माण और विकास करने के उद्देश्य से की गई थी। ‘सीमा सड़क संगठन’ यानी BRO एकमात्र ऐसी सड़क बनाने वाली संस्था है, जो विपरीत और कठिन परिस्थितियों तथा अत्यंत खराब मौसम होने के बावजूद सड़क-निर्माण और मरम्मत का कार्य करती है। आज हम आपको बता रहे हैं सीमा सड़क संगठन द्वारा किए गए कुछ ऐसे ही साहस से भरे निर्माण कार्य, जिनके बारे में जानकार आपको भी सेना की इस विंग पर गर्व होगा।





अत्यंत दुर्गम इलाकों में सड़क बनाता है BRO

सीमा सड़क संगठन ने अब तक देश के कठिनतम क्षेत्रों और दूरदराज के इलाकों में 53,000 किमी. लंबे सड़क मार्ग, 607 बड़े स्थाई पुल और 19 आॅपरेशनल ‘एयरफील्ड्स’ का निर्माण कर चुका है। इनमें बिहार, झारखंड और ओडिशा के कोयला खदानों के लिए सड़कों को एक लेन से दो लेन बनाने का कार्य भी शामिल है।

यही नहीं, यह संगठन ई-तकनीक के साथ पुल निर्माण का कार्य भी करता है। बीआरओ के पास 22,803 किमी. सड़क और 253 पुलों के निर्माण का काम है। सीमा सड़क संगठन ने 1,29,302 मीटर अस्थाई पुलों को स्थाई बनाने का काम भी किया है।

Comments

Most Popular

To Top