DEFENCE

गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत-चीन के सैनिकों की बॉर्डर पर्सनल मीटिंग

भारत-चीन सैनिकों की मीटिंग

नई दिल्ली। भारत के गणतंत्र दिवस के अवसर पर चीन और भारत के सैनिकों की बॉर्डर पर्सनल मीटिंग हुई जिसमें कहा गया कि वे लाइन ऑफ कंट्रोल (LaC) पर शांति बहाली के लिए काम करेंगे। आमूमन इस बैठक में सीमा संबंधी मसलों पर चर्चा नहीं होती है। लेकिन इस बार मीटिंग में कहा गया कि दोनों देशों की सरकारों ने जिन संधियों और समझौतों पर दस्तखत किए हैं उसके अनुरूप काम करने की भावना रहेगी।





हालांकि अक्सर इस बैठक का आयोजन पांच जगहों पर किया जाता है। जिनमें है- बूम ला और किबितु (अरुणाचल प्रदेश), नाथूला (सिक्किम) के अलावा दौलत बेग ओल्डी और चुशुल (लद्दाख)। बेग ओल्डी और चुशूल में यह मीटिंग समारोहपूर्वक हुई। समारोह में भारत के राष्ट्रीय ध्वज को दोनों देशों के प्रतिनिधियों की ओर से सलामी दी गई। प्रतिनिधियों के प्रमुखों ने समारोह में अपनी-अपनी बात रखी।

सीमा पर यथास्थिति बहाल रखे चीन: भारत

इस बीच बीजिंग स्थित भारत के राजदूत गौतम बंबावले ने कड़े लहजे में कहा है कि चीन सीमा पर यथास्थिति बदलने की कोशिश न करे। हर हाल में यथास्थिति बहाल रखे। उन्होंने कहा बीजिंग ने डोकलाम की घटना को जरूरत से ज्यादा तूल दे दिया है। बंबावले ने यह टिप्पणी चीन के सरकारी अखबार ‘ग्लोबल टाइम्स’ को दिए गए साक्षात्कार के दौरान की है।

 

Comments

Most Popular

To Top