Forces

अशोक चक्र: भारत का शांतिकाल का सबसे बड़ा सम्मान, 9 खास बातें

शौर्य, वीरता, साहस, पराक्रम और अदम्य उत्साह से भरे अनेक वीर सपूतों ने देश के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान कर दिया। कितने ही देशभक्तों ने बिना अपनी जान की परवाह किए देश की रक्षा के लिए अपने जीवन की कुर्बानी दे दी। ऐसे ही वीरों के जोश, जज्बे और जुनून को सराहने के लिए अनेक वीरता पुरस्कार भी दिए जाते है। ऐसा ही एक पुरस्कार है अशोक चक्र। आज हम आपको शांतिकाल के इस सबसे बड़े वीरता पुरस्कार से जुड़ी कुछ खास बातें बताने जा रहे हैं-





साल 2019 का अशोक चक्र मिला है लांस नायक वानी को

लांस नायक नजीर अहमद वानी

कश्मीर के शोपियां में गत वर्ष नवंबर में आतंकवाद रोधी अभियान के तहत अपना सर्वोच्च बलिदान देने वाले लांस नायक नजीर अहमद वानी को अशोक चक्र से नवाजा गया है। लांस नायक वानी को मरणोपरांत दिए जाने वाला अशोक चक्र शांति काल के दौरान प्रदान किए जाने वाला सर्वोच्च वीरता सम्मान है। अधिकारियों ने कहा कि 38 वर्षीय वानी पिछले साल 25 नवंबर को मुठभेड़ के दौरान शहीद हो गए थे। वह साल 2004 में सेना में शामिल हुए थे। भारत सरकार ने उन्हें यह सम्मान वर्ष 2019 का प्रदान किया है। वह राष्ट्रीय राइफल्स में कार्यरत थे।

Comments

Most Popular

To Top