Army

सेना को जल्द मिलेगी ‘अग्नि-5’ मिसाइल, पांच हजार किलोमीटर तक कर सकती है मार

अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल
अग्नि-5 बैलिस्टिक मिसाइल (सौजन्य- गूगल)

नई दिल्ली। इंटर कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल प्रणाली ‘अग्नि-5’ का पहला बैच सेना को सौंप दिया जाएगा।  ‘अग्नि-5’ की मारक क्षमता पांच हजार किलोमीटर तक है। इसके दायरे में पूरा चीन आता है। मीडिया खबरों में आधिकारिक सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि यह मिसाइल प्रणाली परमाणु हथियार भी ले जा सकती है। सूत्रों के मुताबिक इस मिसाइल प्रणाली को स्ट्रैटिजिक फोर्सेज कमांड (SFC) में शामिल करने की तैयारी की जा रही है। देश के सबसे अत्याधुनिक हथियार को सैन्य बलों को सौंपने से पहले कई परीक्षण किए जा चुके हैं और किए जा रहे हैं।





रक्षा जानकारों के मुताबिक इस मिसाइल प्रणाली के शामिल होने से सेना की ताकत बेहद बढ़ जाएगी। पांच हजार किलोमीटर तक मार करने वाली इस मिसाइल से पेइचिंग, शंघाई, गुआंगझाऊ और हॉन्ग कॉन्ग सरीखे शहरों समेत चीन के किसी भी इलाके को टारगेट किया जा सकता है। ‘अग्नि-5’ का पहला परीक्षण 19 अप्रैल 2012 को, दूसरा परीक्षण 15 सितंबर 2013 को, तीसरा परीक्षण 31 जनवरी 2015, चौथा परीक्षण 26 दिसंबर 2016 और पांचवा परीक्षण 18 जनवरी को किया गया। पिछले महीने ‘अग्नि-5’ का 3 जून को ओडिशा तट से छठा सफल परीक्षण किया गया था। कुछ और परीक्षण अगले कुछ सप्ताहों में होने वाले हैं।

सतह से सतह तक मार करने में सक्षम और देश में विकसित यह मिसाइल 17 मीटर लंबी और दो मीटर चौड़ी है। इसका प्रक्षेपण वजन लगभग 50 टन है। यह एक टन से अधिक वजन के परमाणु आयुध ले जाने में सक्षम है।

Comments

Most Popular

To Top