Forces

सैनिक स्कूलों जैसा मॉडल हर स्कूल में बनाए: पीएमओ

एनसीसी के बच्चे

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री कार्यालय ने मानव संसाधन विकास मंत्रालय से कहा है कि वह यह सुनिश्चित करे कि सैनिक स्कूलों की तरह ही अन्य स्कूलों को भी विकसित किया जाए। इस संबंध में पीएमओ ने एक बैठक बुलाकर मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD) को आवश्यक निर्देश भी दिए हैं।





प्रकाश जावड़ेकर की अगुवाई वाली एचआरडी मिनिस्ट्री से कहा गया है कि वह देश भर के स्कूलों में सैनिक स्कूलों जैसी सुविधाएं मुहैया कराए। इनमें केंद्रीय विद्यालय, जवाहर नवोदय विद्यालय को अपडेट करना शामिल है। खबर है कि पीएमओ ने सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन से भी इस बारे में बात की है। सीबीएसई से देश के करीब 20 हजार प्राइवेट स्कूल जुड़े हैं।

सैनिक स्कूल की क्या है खासियत?

सैनिक स्कूलों में बच्चों को इस तरह तैयार किया जाता है कि वे भविष्य में किसी भी चुनौती का सामना करने लायक बन सकें। पढ़ाई के साथ-साथ एनसीसी की ट्रेनिंग भी दी जाती है ताकि जो बच्चे सेना में शामिल होना चाहते हैं, उन्हें कोई कठिनाई न हो। बच्चों के समग्र विकास के लिए राष्ट्रीय मूल्यों और अनुशासन पर जोर दिया जाता है।

Comments

Most Popular

To Top