Army

कश्मीर में आतंकियों की इतनी जुर्रत, अगवा कर लेफ्टिनेंट को मार डाला

लेफ्टिनेंट उमर फैयाज

श्रीनगर: कश्मीर घाटी के दक्षिणी क्षेत्र के शोपियां में बुधवार सुबह सेना के लेफ्टिनेंट उमर फैयाज का गोलियों से छलनी शव मिला है। फैयाज एक शादी समारोह में शामिल होने गए थे जहां से पांच से 6 आतंकवादियों ने उनका आल्टो कार समेत अपहरण कर लिया। उनके शरीर पर गोलियों के दो निशान पाए गए हैं। उमर फैयाज जम्मू के अखनूर में तैनात थे। वह सेना में डॉक्टर थे और हाकी के अच्छे खिलाड़ी भी थे। वह राजपूताना रायफल्स से थे। लेफ्टिनेंट उमर ने वर्ष 2016 में ही सेना में कमीशन प्राप्त किया था।





आतंकियों का दुस्साहस या कायरता?

उबला फ़ौजी साथियों का खून, बोले कब्र में भी शांत न रहना दोस्त….याद दिलाते रहना

इस बीच पत्थरबाजों ने बुधवार को दक्षिणी कश्मीर के सैन्य अधिकारी की अंतिम यात्रा को अपना निशाना बनाया। सैन्य अधिकारी की अंतिम यात्रा में फायरिंग की भी आवाजें सुनी गईं। उमर को बाद में दफन कर दिया गया। इस बीच साउथ वेस्टर्न कमांड के जनरल ऑफिसर कमांडिंग इन चीफ लेफ्टी. जनरल अभय कृष्णा ने कहा, “मैं उनके परिवार को आश्वस्त करता हूँ कि ऐसा घिनौना और कायराना अपराध करने वालों को बख्शा नहीं जाएगा।”

इससे पहले राज्य पुलिस ने अपने कर्मियों को एडवाइजरी जारी की थी कि वे अपने पैतृक गांवों विशेषकर दक्षिणी कश्मीर में अगले परामर्श तक नहीं जाएं। दक्षिणी कश्मीर के अधिकांश जिलों पुलवामा, शोपियां, अनंतनाग और कुलगाम में आतंकवादी गतिविधियां बढ़ी हैं।

उमर फैयाज

लेफ्टिनेंट उमर फैयाज

लेफ्टिनेंट उमर फैयाज को पूरे सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई

लेफ्टिनेंट उमर फैयाज

लेफ्टिनेंट उमर फैयाज (फाइल फोटो)

पुलिस के मुताबिक, उमर फैयाज छुट्टी पर थे और अपने मामा की बेटी की शादी में शिरकत करने गए थे, जहां से उन्हें रात 10 बजे 5-6 आतंकियों ने अगवा कर लिया था। उमर फैयाज कुलगाम के रहने वाले थे। उनकी बॉडी शोपियां जिले के हरमन चौक पर पाई मिली। मामले में पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। पुलिस को इस मामले में कुछ सुराग मिले हैं, उन्ही के आधार पर मामले की जांच की जा रही है। पुलिस ने आतंकियों की तलाश के लिए सर्च ऑपरेशन शुरू कर दिया है। वहीं, सेना भी यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि आखिर किन हालात में लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की मौत हुई है।

उमर फैयाज के पिता एक किसान हैं, कुछ वक्त तक उन्होंने बिजनेस भी किया था। उमर नेशनल डिफेंस एकेडमी (NDA) के कैडेट भी रहे थे। वह सितंबर में यंग ऑफिसर्स कोर्स करने वाले थे। एनडीए में वह हॉकी टीम के कप्तान थे।

केन्द्रीय रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने कहा, “लेफ्टिनेंट उमर फैयाज के बलिदान ने घाटी से आतंकवाद को ख़त्म करने की राष्ट्र की प्रतिबद्ध्ता मजबूत की है। आतंकियों की ओर से उम्र को अगवा कर मारना डरपोक रवैया और कायराना हरकत है। जम्मू-कश्मीर का ये यंग आफिसर रोल माडल था।” केन्द्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने कहा, “देखते हैं जांच में क्या आता है, उसके बाद ही सही जवाब दे सकूंगा।”

Comments

Most Popular

To Top