Army

UN ने शहीद दो भारतीय शांति सैनिकों को सम्मानित किया

भारतीय शांति सैनिक

नई दिल्ली। संयुक्त राष्ट्र संघ (यूएन) ने शांति सैनिकों के अंतर्राष्ट्रीय दिवस के अवसर पर दो भारतीय सैनिकों को उनके बलिदान के लिए सम्मानित किया। संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में आयोजित एक समारोह में सम्मानित होने वाले दो भारतीय शांति सैनिक उन 117 नागरिकों, सैनिकों एवं पुलिसकर्मियों में से हैं, जिन्होंने साल 2016 में शांति अभियान के दौरान अपना बलिदान दिया। अब तक संयुक्त राष्ट्र मिशन की सेवा करते हुए लगभग 168 भारतीय जवानों ने बलिदान दिया है।





संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में यूएन महासचिव एंटोनियो गुटेरस ने सभी मृतक शांति सैनिकों के सम्मान में पुष्पांजलि अर्पित की और सभी 117 शांति सैनिकों को मरणोपरांत डेग हम्मेरस्कोल्ड (Dag Hammarskjold) मेडल से सम्मानित किया। इनमें भारत से दो शांति सैनिक शामिल हैं। राइफलमैन ब्रिजेश थापा, जिन्होंने कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (मॉन्सुस्को) में संयुक्त राष्ट्र संगठन स्थिरीकरण मिशन और सैनिक रवि कुमार को लेबनान में राष्ट्र अंतरिम बल (यूएनआईएफआईएल) के दौरान उनके बलिदान के लिए सम्मानित किया गया।

अपने वीडियो संदेश में यूएन महासचिव ने कहा: “हर दिन, शांतिकर्मियों ने दुनिया भर के युद्धग्रस्त समाजों में शांति और स्थिरता लाने में मदद की है। संयुक्त राष्ट्र शांति सैनिक के अंतर्राष्ट्रीय दिवस पर, हम 3,500 से अधिक शांति सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हैं जिन्होंने 1948 के बाद से शांति की सेवा में अपना जीवन दिया है।”

वर्तमान में 124 देशों के 96,000 से अधिक सैनिक, पुलिस 15,000 से अधिक अंतर्राष्ट्रीय और राष्ट्रीय नागरिक कर्मचारियों के साथ और 16600 संयुक्त राष्ट्र के स्वयंसेवकों के साथ संयुक्त राष्ट्र के नीले ध्वज के तहत काम करते हैं। संयुक्त राष्ट्र शांति प्रबंधन में भारत वर्दीधारी कर्मियों का दूसरा सबसे बड़ा योगदानकर्ता है। वर्तमान में 7,600 से अधिक सैन्य और पुलिसकर्मियों को अफगानिस्तान में संयुक्त राष्ट्र शांति अभियानों, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, हैती, लेबनान, लाइबेरिया, मध्य पूर्व, दक्षिण सूडान, सूडान और पश्चिमी सहारा में तैनात किया गया है।

Comments

Most Popular

To Top