Army

मल्टी बैरल पिनाका का सफल परीक्षण, 44 सेकेंड में दागता है 12 रॉकेट

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने निर्देशित पिनाका रॉकेट का ओडिशा के तट से सफल परीक्षण किया। रक्षा मंत्रालय के अनुसार निर्देशित पिनाका रॉकेट को पिनाका रॉकेट से ही विकसित किया गया है और यह नेविगेशन, गाइडेंस और कंट्रोल किट से लैस है। नए रूप में पिनाका रॉकेट की मारक क्षमता और लक्ष्य को भेदने की संभावना काफी हद तक बढ़ गई है।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने गाइडेड पिनाका रॉकेट का ओडिशा के तट से सफल परीक्षण किया। रक्षा मंत्रालय के अनुसार गाइडेड पिनाका रॉकेट को पिनाका रॉकेट से ही विकसित किया गया है और यह नेविगेशन, गाइडेंस और कंट्रोल किट से लैस है। नए रूप में पिनाका रॉकेट की मारक क्षमता और लक्ष्य भेदने की संभावना काफी हद तक बढ़ गई है। पिनाका 60 किलोमीटर की दूरी और साढ़े तीन वर्ग किलोमीटर क्षेत्र में एक साथ दुश्मन के कई ठिकानों को नष्ट कर सकती है। यह मिसाइल 44 सेकेंड में 12 रॉकेट दागने में सक्षम है।





पिनाका की खासियत

पिनाक मार्क-1 रॉकेट को नैविगेशन, गाइडेंस और कंट्रोल किट से जोड़कर गाइडेड पिनाका में बदल दिया गया है और इसे मार्क-2 कहा गया है। इससे पिनाका की रेंज और सटीकता बढ़ी है। रक्षा मंत्रालय ने बताया है कि टेस्ट में मिशन के सभी लक्ष्य पूरे हो गए। लॉ इंटेसिटी वाले संघर्षों में यह रॉकेट प्रणाली फौरन जवाबी हमला करने में सक्षम है। पिनाका की मिसाइलें दागने की रफ्तार काफी ज्यादा है और इसमें एंटी रडार सिस्टम लगा है। इसके मिलने से सशस्त्र सेनाओं की मारक क्षमता बेहतर होगी।

पिनाका ने मिशन के सभी लक्ष्यों को हासिल किया

परीक्षण के दौरान गाइडेड पिनाका ने मिशन के सभी लक्ष्यों को हासिल किया। परीक्षण के दौरान रॉकेट की सभी प्रणालियों पर कड़ी नजर रखी गई। इसका विकास आर्मामेंट रिसर्च एंड डेवलपमेंट एस्टेब्लिशमेंट (ARDE) पुणे, आरसीआई हैदराबाद और डीआरडीएल हैदराबाद ने संयुक्त रूप से किया है।

Comments

Most Popular

To Top