Army

स्पेशल रिपोर्ट:चीन सीमा पर चुनौतियों से निबटने को हम तैयार- नरवाणे

सेना प्रमुख नरवाणे

नई दिल्ली। थलसेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवाणे ने कहा है कि भारतीय सेना चीन सीमा पर पैदा किसी चुनौती से निबने को तैयार है। उन्होंने यह भी कहा कि पाकिस्तान अधिकृत जम्मू कश्मीर के इलाके को लेकर भारतीय संसद ने एक प्रस्ताव पारित कर उसे अपने अधीन करने की बात कही थी इसलिये भारतीय संसद से जब भी उन्हें  निर्देश मिलेगा वह आदेश का पालन करेंगे।





थलसेना द्वारा 15 जनवरी को  मनाए जाने वाले  सेना दिवस के मौके पर यहां शनिवार को नये थलसेनाध्यक्ष जनरल मनोज नरवाणे ने कहा कि तीनों सेनाओं में एकीकरण के इरादे से चीफ आफ डिफेंस स्टाफर यानी प्रधान सेनापति का पद बनाया जाना एक बडा कदम है और  थलसेना इसकी सफलता सुनिश्चित करेगी। उन्होंने कहा कि उनका मुख्य जोर थलसेना के भीतर और तीनों सेनाओं के बीच एकीकरण पर रहेगा। उन्होंने कहा कि इंटीग्रेटेड बैटल ग्रुप का गठन इसकी एक मिसाल है लेकिन  वह कहना चाहेंगे कि ऐसा व्यापक स्तर पर सेनाओं के बीच किया जाएगा।  दस दिनों पहले ही भारत के थलसेना प्रमुख का दायित्व सम्भालने के बाद अपने पहले सार्वजनिक संवाददाता सम्मेलन में जनरल नरवाणे  ने कहा कि चीफ आफ डिफेंस स्टाफ और रक्षा मंत्रालय के भीतर सैनिक मामलों के विभाग का गठन सही दिशा में एक कदम  है जिसे निर्देश है कि थलसेना, वायुसेना और नौसेना के बीच बेहतर तालमेल के लिये एकीकरण का माहौल बने।

 जम्मू कश्मीर में भारतीय सेनाओं पर लगाए जाने वाले आरोपों के बारे में जनरल नरवाणे  ने कहा कि भारतीय थलसेना एक पेशेवर सेना है और  शांति काल में, नियंत्रण रेखा पर और युद्ध के दौरान यह  सर्वाधिक नैतिक तरीके से बर्ताव करती है।

चीन सीमा पर चीनी सेना द्वारा सैन्य ढांचागत निर्माण और तैनाती बढ़ाए जाने के बारे में पूछे जाने पर जनरल नरवाणे  ने कहा कि उत्तरी सीमाओं पर किसी भी चुनौती से निबटने के लिये हम तैयार हैं। उन्होंने कहा कि उत्तरी सीमाओं पर सैन्य तैयारी को हम पुर्नसंतुलित कर रहे हैं।

जनरल नरवाणे ने कहा कि संविधान के प्रति  प्रतिबद्धता ही हमेशा निर्देशित करेगी। संविधान में न्याय, आजादी.समानता और भाईचारे की बात कही गई है जिसे लेकर हम हमेशा प्रतिबद्ध रहेंगे।

जनरल नरवाणे ने कहा कि थलसेना का मुख्य जोर थलसेना को भविष्य के युद्धों के लिये हमेशा तैयार रखने पर रहेगा जो कि नेटवर्क आधारित होगा।

 

Comments

Most Popular

To Top