Army

Special Report: यौन उत्पीड़न के आरोप में मेजर जनरल बर्खास्त

पीड़िता
प्रतीकात्मक

नई दिल्ली। थलसेना मुख्यालय ने अपने मेजर जनरल रैंक के एक अफसर को यौन उत्पीड़न के मामले में दोषी पाए जाने के बाद बर्खास्त करने का कदम उठाया है।





यहां सेना मुख्य़ालय के एक सूत्र के मुताबिक थलसेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने इस फैसले की पुष्टि की है। मेजर जनरल रैंक का आरोपी अफसर अम्बाला स्थित सैन्य छावनी में तैनात है। अम्बाला में टू-कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल एम जे एस कहलों ने आरोपी सैन्य जनरल को थलसेना मुख्यालय के आदेश से अवगत कराया।

सैन्य अधिकारी के मुताबिक आरोपी मेजर जनरल को दोषी ठहराए जाने के कोर्ट मार्शल के फैसले की पुष्टि थलसेना प्रमुख जनरल रावत ने जुलाई महीने में ही कर दी थी। आरोपी मेजर जनरल के वकील ने थलसेना मुख्यालय के इस आदेश को गैरकानूनी बताया है क्योंकि उन्हें कोर्ट मार्शल की कार्रवाई की प्रतियां सप्लाई नहीं की गई। वकील के मुताबिक मेजर जनरल की समीक्षा याचिका विचाराधीन है इसके बावजूद थलसेना प्रमुख ने मेजर जनरल को बर्खास्त करने के आदेश की पुष्टि कर दी। वकील के मुताबिक थलसेना मुख्यालय के आदेश को उच्च अदालत में चुनौती दी जाएगी।

सूत्रों के मुताबिक मेजर जनरल के ऊपर लगे आरोप उन दिनों के हैं जब साल 2016 में वह उत्तर पूर्वी राज्य में तैनात थे। उनके खिलाफ यौन उत्पीड़न का आरोप कैप्टन रैंक की एक महिला अधिकारी ने लगाया था।

आर्म्ड फोर्सेज ट्रिब्यूनल में दायर अपील में मेजर जनरल ने कहा है कि वह थलसेना में गुटबाजी के शिकार हुए हैं।

Comments

Most Popular

To Top