Army

शहीद परमजीत के आश्रित को नौकरी, बच्चों को मुफ्त शिक्षा

शहीद नायब सूबेदार परमजीत सिंह

चंडीगढ़: पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने पाकिस्तान की बर्बरता का शिकार हुए शहीद नायब सूबेदार परमजीत सिंह के आश्रितों को 12 लाख रुपये की अनुग्रह राशि देने की घोषणा की है। मुख्यमंत्री 7 मई को शहीद के तरनतारन स्थित पैतृक गांव जायेंगे।





पंजाब सरकार के एक प्रवक्ता के मुताबिक, शहीद नायब सूबेदार परमजीत सिंह की पत्नी और बच्चों को 5 लाख रुपये नकद और इतनी ही राशि का प्लाट दिया जायेगा जबकि शहीद के माता-पिता को दो लाख रुपये दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने शहीद सैनिक के निकट संबंधी को एक उचित सरकारी नौकरी देने का फैसला किया है। इसके अलावा उनके बच्चों को राज्य के नौ सैनिक इंस्टीच्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नॉलाजी में से किसी एक से डिग्री कोर्स तक निशुल्क शिक्षा देने का ऐलान किया है।

अमर जवान

अपने हीरो को सेना ने ऐसे दी श्रद्धांजलि

‘सपनों के घर’ में शहादत के बाद पहुंचे परमजीत सिंह, बेटी ने कहा-‘पापा पर गर्व है’

मुख्यमंत्री ने स्थानीय सरकारी रेस्ट हाउस का नाम नायब सूबेदार परमजीत सिंह के नाम पर रखने के लिये रेड क्रास के द्वारा एक लाख रुपये देने को भी स्वीकृति दी है। इस बर्बरतापूर्ण कार्रवाई पर गहरा दुख और रोष जताते हुए मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि देश की एकता एवं अखंडता की रक्षा के लिये अपना महान बलिदान देने के बदले समूचा देश उनका ऋणी है। उन्होंने कहा कि इस धरती के बहादुर पुत्र ने अपना बलिदान देकर देशभक्ति के शानदार मूल्यों को बनाये रखा है।

गौरतलब है कि पाकिस्तान सेना द्वारा सोमवार को जम्मू-कशमीर में किये बर्बरतापूर्ण हमले के दौरान सेना में नायब सूबेदार परमजीत सिंह सहित और बीएसएफ के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर को अपने प्राणों की आहुति देनी पड़ी थी और पाकिस्तान सैनिकों द्वारा शव को बुरी तरह विकृत कर दिया था।

Comments

Most Popular

To Top