Army

भारतीय सैन्य अफसरों के सर्विस-रिकॉर्ड हुए डिजीटाइज, सेना प्रमुख ने दी जानकारी

सेना प्रमुख बिपिन रावत

नई दिल्ली। भारतीय सेना के किसी अधिकारी को अपने सर्विस-रिकॉर्ड संबंधी कोई शिकायत न हो इसके लिए सेना ने अपने सभी अधिकारियों के रिकॉर्डस को डिजीटाइज कर दिया है। बता दें कि किसी अधिकारी को अपनी उम्र, भर्ती या फिर सैलेरी संबंधी कोई भी शिकायत है तो वो सीधे ऑनलाइन इसकी शिकायत कर सकता है।





बुधवार को सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने आर्मी कमांडर्स कॉन्फ्रेंस में सेना के सभी बड़े कमांडर्स को इस बारे में जानकारी दी। सेना हेडक्वॉर्टर के एजी ब्रांच को इस सिस्टम की जिम्मेदारी सौंपी गई है।

वर्तमान में सेना में शिकायत केवल पत्र या फाइल मूव करके की जाती थी जो एक काफी लंबी प्रक्रिया थी। लेकिन सेना ने हाल ही में अपने अधिकारियों के लिए ‘ऑफिसर्स ऑटोनोमस स्ट्रक्चर इंफोसिस्टम’ लॉन्च किया है जिसके कारण कोई भी अफसर देश के किसी भी कोने में तैनात हो वहीं से बैठकर सेना मुख्यालय में अपने सर्विस से संबंधित किसी शिकायत को दर्ज कर सकते हैं।

गौरतलब है कि कुछ साल पहले तत्कालीन थलसेना प्रमुख जनरल वीके सिंह ने अपनी जन्मतिथि को लेकर उठे विवाद में सरकार को सुप्रीम कोर्ट तक में खींच डाला था जिससे सेना और सरकार के बीच दूरियां बढ़ने की नौबत आ गई थी। जनरल वीके सिंह का दावा था कि भर्ती के समय उनकी उम्र एक साल कम कर दी गई थी, जिसकी वजह से उन्हें एक साल पहले रिटायर कर दिया था। पर सरकार ने उनकी उम्र को वही माना जो उनकी कमीशनिंग के वक्त रिकॉर्ड्स में दर्ज थी। जनरल वीके सिंह का दावा था कि उन्होंने अपनी उम्र को लेकर सेना मुख्यालय में शिकायत दर्ज की थी।

मालूम हो कि अब किसी भी सैन्य-अधिकारी को अपनी उम्र, छुट्टी या फिर वेतन के मद्देनजर कोई भी शिकयत होने पर उसे ऑनलाइन दर्ज किया जा सकता है। यह पूरा सिस्टम आर्मी-इंट्रानेट पर उपलब्ध है। इस सिस्टम से सेना के तकरीबन 40 हजार सैन्य अफसर आर्मी इंट्रानेट पर लॉगइन करके अपने सर्विस को लेकर कोई भी जानकारी देख सकते हैं और उस पर आपत्ति भी दर्ज करा सकते हैं।

सियाचिन जैसे दूर-दराज इलाकों में भी सेना का इंट्रानेट काम करता है। ऐसे में ऑफिसर सेना मुख्यालय से जुड़े रहेंगे।

Comments

Most Popular

To Top