Army

बर्बरता की कहानियां, कभी काटी गर्दन तो…

नई दिल्ली: पड़ोसी देश पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है। पाकिस्तानी सेना ने अपनी बर्बरता एक बार फिर दुनिया को दिखा दी है। जम्मू कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा पर सोमवार को पाकिस्तानी गोलीबारी में दो भारतीय जवान शहीद हो गए, जिनके शवों के साथ पाकिस्तान की बार्डर एक्शन टीम ने (बैट) बर्बरता की। बैट ने दोनों शवों को क्षत विक्षत कर दिया।





ऐसा पहली बार नहीं हुआ है जब पाकिस्तान ने इस तरह की बर्बरता की हो। इसकी फेहरिस्त बहुत लंबी है। कभी पाकिस्तान ने भारतीय जवानों का सिर काट लिया तो कभी उनके शवों को क्षत-विक्षत कर भारत को सौंपा। आइए रक्षकन्यूज.काम आपको बताता है कि पाकिस्तान सेना या आतंकियों ने कब-कब भारतीय जवानों के साथ बर्बरता की है:

1999 करगिल युद्धः 4 जाट रेजिमेंट के शहीद कैप्टन सौरभ कालिया, सिपाही अर्जुनराम बासवान, मुलाराम बिदियासर, नरेश सिंह सिनसिनवार, भंवरलाल बगाडि़या और भिखाराम मुध के साथ पाकिस्तान सैनिकों ने जो बर्बरता की थी उसे न सिर्फ पूरी दुनिया ने देखा बल्कि इसकी कड़े शब्दों में निंदा की।

शहीद कैप्टन सौरभ कालिया

कैप्टन कालिया और उनके साथियों के साथ ऐसी बर्बरता हुई थी कि सुनकर दिल दहल जाए। उनके कानों में गर्म लोहे का रॉड डाला गया था, आंखें फोड़ दी गई थीं और उनके जननांग काट दिए गए थे। उनको सिगरेट से दागा गया था, दांत टूटे हुए थे और सिर फटे हुए थे। इतना ही नहीं, होठ और नाक भी काट दिए गए थे। पाकिस्तान ने 9 जून 1999 को उनका क्षत-विक्षत शव भारत को सौंपा था।

फरवरी 2000: पकिस्तान आतंकी इलियास कश्मीरी ने नौशेरा सेक्टर की एक चौकी पर हमला कर सात भारतीय जवानों को शहीद कर दिया। कश्मीरी उस हमले में 17 मराठा लाइट इंफैट्री के जवान भाऊसाहेब तालेकर का सिर काटकर अपने साथ ले गया था। तालेकर की उम्र 24 साल थी।

जून 2008: जम्मू-कश्मीर के केल सेक्टर में पाकिस्तान बॉर्डर एक्शन टीम ने 2/8 गोरखा राइफल के एक जवान का गला काट दिया था। यह जवान पेट्रोलिंग के दौरान रास्ता भटक गया था। बाद में उसका शव बिना सिर के बरामद हुआ। उसके बाद एक जवाबी हमले में भारतीय सेना के जवान चार पाकिस्तानी सैनिकों के सिर काटकर लेकर आए। इस जवाबी हमले में पाकिस्तान के कुल आठ जवान मारे गए।

30 जुलाई 2011: जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले में पाकिस्तानी सेना के हमले में 5 भारतीय जवान शहीद हुए थे। बताया गया था कि यह हमला गुगलधर चोटी पर स्थित भारतीय सेना की पोस्ट पर पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम (बीएटी) ने किया था। पाकिस्तानी बॉर्डर एक्शन टीम दो भारतीय जवान हवलदार जयपाल सिंह अधिकारी और लांस नायक देवेंद्र सिंह के सिर काटकर ले गई थी। उसके बाद भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई में 8 पाकिस्तानी जवानों को मार गिराया गया था। बताया जाता है कि बदले में भारतीय सेना तीन पाकिस्तान सैनिकों के सिर लाई थी।

शहीद सुधाकर सिंह (दाएं) और शहीद हेमराज (बाएं)

08 जनवरी 2013: पाकिस्तानी बैट ने मेंढर सेक्टर में शहीद हेमराज का सिर काट लिया था, जबकि दूसरे जवान सुधाकर सिंह के शव को क्षत-विक्षत कर दिया था। बैट की इस बर्बर कार्रवाई का सेना ने भी उचित जवाब दिया था। उस वक्त तत्कालीन सेना प्रमुख जनरल बिक्रम सिंह ने कहा था कि यदि पड़ोसी देश की सेना नियमों का उल्लंघन करती हो तो फिर हमसे नियमों पर अडिग रहने की उम्मीद नहीं की जा सकती।

28 अक्टूबर 2016: जम्मू-कश्मीर में कुपवाड़ा के माछिल सेक्टर में पाकिस्तान की ओर से फायरिंग में सेना का एक जवान शहीद हुआ था। इतना ही नहीं, आतंकियों ने मुठभेड़ में शहीद होने वाले जवान के शव के साथ बर्बरता भी की थी। शहीद होने वाला जवान मनदीप सिंह 17 सिख रेजीमेंट का था। वहीं आतंकियों के भागने के लिए पाकिस्तानी सैनिकों ने कवर फायरिंग भी की थी। हालांकि पाकिस्तान की इस बर्बरता के विरोध में भारत ने पलटवार करते हुए भारतीय सेना ने सोनावैली में पाकिस्तान सैनिकों की तीन पोस्ट तबाह की थी और जवाबी हमले में 6-7 पाकिस्तानी सैनिकों को मार गिराया था।

22 नवंबर 2016: पिछले साल जम्मू-कश्मीर में एलओसी के साथ सटे माछिल सेक्टर में पाकिस्तानी सैनिकों ने घात लगाकर भारतीय जवानों पर हमला किया था। इस हमले में 57 आरआर के तीन जवान शहीद हो गए थे। जबकि दो घायल हुए थे। इसी दौरान भी पाकिस्तानी सेना की कायराना हरकत देखने को मिली थी। पाकिस्तानी सैनिक एक जवान का सिर काटकर अपने साथ ले गए थे। वह जवान राजस्थान के 25 वर्षीय प्रभु सिंह थे, बाकी दो उत्तर प्रदेश के के. कुशवाह और शशांक के. सिंह थे।

सेना के नायब सूबेदार परमजीत सिंह (बांए) और बीएसएफ के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर (दाएं)

 

01 मई 2017: पुंछ जिले की कृष्णा घाटी में पाकिस्तान ने भारतीय जवानों पर हमला किया जिसमें दो जवान शहीद हो गए। इनके क्षत-विक्षत शव मिले। शहीदों में बीएसएफ के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर और सेना के नायब सुबेदार परमजीत सिंह शामिल हैं। जवाबी कार्रवाई में भारत ने पाकिस्तान की दो सैन्य पोस्ट पर बड़ा हमला बोला। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, भारत की जवाबी कार्रवाई में सात पाकिस्तानी जवान ढेर हो गए।

पाकिस्तान की बार्डर एक्शन टीम ने (बैट) के बारे में

बैट टीम LoC पर छापामार युद्ध करने में माहिर है। यह पाकिस्तान की स्पेशल सर्विस ग्रुप (SSG) के साथ काम करती है। यह सीमा के एक से तीन किलोमीटर अंदर जाकर हमले करती है। इस टीम का मकसद सीमा पार कर छोटे हमले करना होता है। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई इसे सूचनाएं मुहैया कराती है। इस टीम की ट्रेनिंग करीब आठ महीने की होती है जिसमें चार सप्ताह हवाई युद्ध करना सिखाया जाता है।

Comments

Most Popular

To Top