Army

सेना की वर्दी से भरा लावारिस बैग मिलने के बाद पठानकोट में अलर्ट

घटनास्थल से प्राप्त आटे की बोरी में बंद वर्दियां

पठानकोट। पाकिस्तान के सीमावर्ती पंजाब के पठानकोट में सेना की वर्दियों से भरा एक बोरी मिलने के बाद अलर्ट जारी किया गया है। इस लावारिस बैग को ममून आर्मी कैंटोलमेंट के नजदीक पाया गया। सेना ने इस क्षेत्र को सील कर दिया है। पुलिस टीम और कमांडो द्वारा इस क्षेत्र में तलाशी अभियान जारी है।





वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि एक स्थानीय निवासी द्वारा रविवार को इस बोरी के बारे में पुलिस को सूचना दी गई थी, जिसके बाद टीम ने मौके पर पहुंचकर ये बैग बरामद किया और पठानकोट शहर तथा मूमन छावनी में घटना से जुड़े संदिग्ध के लिए तलाशी अभियान चलाया गया।

आटे की बोरी में मिली वर्दी

अधिकारियों के मुताबिक, डिफेंस रोड के नजदीक एक विरान जगह पर आटे की बोरी मिली, जिसमें पांच शर्ट और दो पैंट मिली हैं। ये वर्दी उसी आॅलिव ग्रीन रंग की हैं जो भारतीय सेना की वर्दी का रंग है। बरामद वर्दियां वहीं है जो जवानों को आर्मी की तरफ से दी जाती हैं। आटे की बोरी जम्मू की अमर रोलर फ्लोर मिल्स की है, जो गेंहू का आटा बनाती है। बोरी पर अंकित जानकरियों के अनुसार, ये मिल जम्मू के गंगयाल फेस-3 में स्थित है। इस बोरी पर फोर डिफेंस सप्लाई भी लिखा है, इससे अंदाजा लगाया जा रहा है कि इस ब्रांड का आटा सेना में इस्तेमाल किया जाता है।

घटनास्थल से प्राप्त आटे की बोरी में बंद वर्दियां

घटनास्थल से प्राप्त आटे की बोरी में बंद वर्दियां

गंभीरता से की जा रही है जांच 

खबरों के मुताबिक, अधिकारी इसे गंभीरता से ले रहे हैं, क्योंकि कुछ समय पहले कहा गया था कि 20-25 आतंकवादियों का एक ग्रुप भारत में घुस आया है, जिसके राजस्थान और पंजाब सहित कुछ इलाकों में बड़ी वारदात करने की आशंका जताई जा रही है।

वहीं, दूसरी तरफ कई बार सैनिक, आर्मी द्वारा दी जाने वाली वर्दी को सही साइज न होने की वजह से इस्तेमाल नहीं कर पाते और इन्हें किसी को दे देते हैं। शुरुआती जांच में जांचकर्ताओं को ऐसा ही मामला लग रहा है। पहले भी इस तरह के मामले सामने आए हैं, इसलिए इसे किसी आतंकवादी घटना से जुड़े होने की आशंका कम जताई जा रही है। इससे पहले इस क्षेत्र में इस महीने की शुरूआत बेस से कुछ ही दूरी पर मोबाइल बैटरियों के साथ दो बैग भी बरामद किए गए थे।

पठानकोट आतंकवाद के नजरिए से बेहद संवेदनशील

पिछले दो साल में पठानकोट दो आतंकवादी हमलों का शिकार हो चुका है। पहले हमले में भारी हथियारों से लैस आतंकवादियों ने जुलाई, 2015 में दीनानगर शहर के गुरदासपुर जिले के एक पुलिस स्टेशन पर हमला कर दिया था जिसमें एक पुलिस अधीकक्षक सहित सात लोगों की जानें गईं थीं।

पिछले साल जनवरी में पठानकोट एयरफोर्स स्टेशन पर भारी हथियारबंद आतंकवादियों द्वारा हमला किया गया था ये आतंकवादी पाकिस्तान से भारत में घुस आए थे। हमले में जहां, सात जवान शहीद हुए थे वहीं चार दिन चले आॅपरेशन के बाद छह आतंकी ढेर कर दिए गया थे। बता दें कि ममून आर्मी कैंटोलमेंट वायुसेना स्टेशन से लगभग 10 किलोमीटर और अंतर्राष्ट्रीय सीमा से 35-40 किलोमीटर की दूरी पर है।

Comments

Most Popular

To Top