Army

‘सपनों के घर’ में शहादत के बाद पहुंचे परमजीत सिंह, बेटी ने कहा-‘पापा पर गर्व है’

नई दिल्ली: पुंछ के कृष्णा घाटी सेक्टर में पाकिस्तान की बर्बरता का शिकार हुए सेना के नायब सूबेदार परमजीत सिंह ने अभी हाल ही में एक घर बनवाया था, जिसमें वह कुछ समय बाद शिफ्ट होने वाले थे लेकिन आज उनका शव इस घर में आया। इस बात का शायद किसी को भी अंदाजा नहीं था कि जिस नए घर में परमजीत सिंह खुशी-खुशी जाना चाह रहे थे वहां उन्हें गमगीन माहौल और चीख-पुकार के बीच ले जाया जाएगा।





शहीद परमजीत सिंह की बेटी सिमरजीत (बाएं)

शहीद परमजीत के भाई चरनजीत सिंह यह कहते हुए बार-बार फफक पड़ते हैं कि उन्होंने नए घर को बनवाया था। वह जल्दी ही इसमें शिफ्ट होने वाले थे। उन्होंने सवालिया लहजे में पूछा कि आखिर कब तक ऐसे कई परमजीत सिंह शहीद होते रहेंगे, कब तक देश के जवान बार-बार शहीद होते रहेंगे? उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की 56 इंच की छाती कब अपना जौहर दिखाएगी। वहीं, शहीद परमजीत सिंह की बेटी सिमरनदीप ने कहा कि उनके पिता देश के लिए शहीद हुए हैं और उन्हें इस बात पर गर्व है।

परमजीत को अंतिम विदाई

शहीद परमजीत सिंह

शहीद परमजीत सिंह का शव उनके घर ले जाते सैनिक अफसर

शहीद परमजीत का शव सेना के हेलिकॉप्टर से उनके पैतृक गांव तरनतारन लाया गया जहां उन्हें सैनिक सम्मान के साथ अंतिम विदाई दी गई। इस मौके पर भारी भीड़ उमड़ी हुई थी। उनके बेटे ने उन्हें मुखाग्नि दी। लोग एक तरफ पाकिस्तान के खिलाफ गुस्सा थे तो वहीं भारत सरकार के खिलाफ भी गुस्सा जाहिर करते नजर आए। एक स्थानीय व्यक्ति ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर कटाक्ष करते हुए कहा कि उनके आगे-पीछे कोई है नहीं। उनके पास बीवी बच्चे नहीं हैं तो उन्हें किसी का दर्द नहीं पता चल पाएगा।

गौरतलब है कि सोमवार सुबह जम्मू के पुंछ में कृष्णाघाटी सेक्टर में पाकिस्तान ने एक बार फिर एलओसी पर कायरतापूर्ण कारवाई की और भारतीय सैनिकों पर घात लगाकर हमला किया। इस हमले में दो सैनिक शहीद हो गए जबकि एक जवान घायल हो गया। जवानों को मारने के बाद उनके शवों के साथ की गई बर्बरता से पूरा देश गुस्से में है। भारतीय सेना ने भी पाकिस्तान को उसके ही अंदाज में जवाब देते हुए उसकी दो चौकियों को ध्वस्त कर दिया और उसके 7 सैनिकों को मार गिराया।

Comments

Most Popular

To Top