Army

जम्मू कश्मीर और पूर्वोत्तर राज्यों में सेना का ऑपरेशन सद्भावना

सेना के इन कार्यों में से एक है ‘ऑपरेशन सद्भानवना’। इसके तहत सेना कश्मीर के स्कूली बच्चों को पूरे देश में घुमाती है और उन्हें अमन और चैन का संदेश देती है। प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार भी सेना ने आर्मी गुडविल स्कूल, सोपोर के छात्र-छात्रों को जम्मू-कश्मीर से उदयपुर तक भ्रमण पर रवाना किया।

नई दिल्ली: इंडियन आर्मी देश की सुरक्षा करने के साथ-साथ और भी ऐसे कार्य करती है जिसकी जितनी तारीफ की जाए कम होगी। सेना के इन कार्यों में से एक है ‘ऑपरेशन सद्भावना’। जम्‍मू कश्‍मीर और पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में इस ऑपरेशन के तहत कार्य किया जा रहा है। पूर्वोत्‍तर में इसी प्रकार की गतिविधियां ऑपरेशन समेरिटन के हिस्‍से के तौर पर चलायी जा रही हैं।





ऑपरेशन के तहत सेना आतंकी प्रभावित इलाकों के स्कूली बच्चों को पूरे देश में घुमाती है और उन्हें अमन और चैन का संदेश देती है। प्रत्येक वर्ष की तरह इस बार भी सेना ने आर्मी गुडविल स्कूल, सोपोर के छात्र-छात्रों को जम्मू-कश्मीर से उदयपुर तक भ्रमण पर रवाना किया।

दूसरी तरफ, आर्मी चीफ ले. जनरल बिपिन रावत ने भी मणिपुर की राजधानी इंफाल में स्कूली बच्चों से मिले और उन्हें शांति का पाठ पढ़ाया। इंफाल में टूर की शुरुआत 5 जनवरी से हो चुकी है। टूर के दौरान स्कूली बच्चे दिल्ली, आगरा जैसे कई ऐतिहासिक क्षेत्रों में भ्रमण करेंगे। 

  • ऑपरेशन सद्भावना की शुरुआत 1998 में भारतीय सेना की उत्तरी कमान ने की थी।
  • लेफ्टिनेंट जनरल अर्जुन राय ने आतंकवाद प्रभावित क्षेत्र में इस अद्भुत पहल को बढ़ावा देने में प्रभावी भूमिका निभाई।
  • कश्मीर के युवाओं के नज़रिए को व्यापक बनाने हेतु ‘ऑपरेशन सद्भावना’ के तहत उनको भारत के विभिन्न हिस्सों का पर्यटन कराया जाता है।
  • बच्चों-युवाओं के साथ-साथ ‘ऑपरेशन सद्भावना’ जम्मू-कश्मीर के वरिष्ठ नागरिकों के लिए भी एक अवसर है।

  • वरिष्ठ नागरिकों को भी कई स्थानों की यात्रा कराई जाती है, ताकि वे उन जगहों पर ज कर वहां के लोगों के साथ मेलजोल बढ़ा सके और देश की अनेकता में एकता की संस्कृति से परिचित हो सकें।
  • इसके अलावा ‘ऑपरेशन उजाला’ भी कश्मीरी बच्चों के लिए समर्पित है। इसके अंतर्गत उन स्कूल को पुनः संगठित किया जा रहा है, जो आतंकवादी हमलों के कारण मलबे में तब्दील हो गए थे।

  • ऑपरेशन सद्भावना युवाओं के लिए रोजगार के अवसर प्रदान करता है। इतना ही नहीं विभिन्न व्यावसायिक पाठ्यक्रम द्वारा उन्हें प्रशिक्षित भी कर रहा है।

‘ऑपरेशन सद्भावना’ का मकसद

  • कश्मीरी अवाम और सेना के बीच बेहतर संबंध स्थापित हो। साथ ही कश्मीर के स्थानीय लोगों की सोच व्यापक हो।

  • ऑपरेशन के तहत आर्थिक रूप से पिछड़े क्षेत्रों के वंचित बच्चों को शिक्षित करने के लिए सेना के गुडविल स्कूल (AGS) स्थापित किए जा रहे हैं।
  • योग्य शिक्षकों, अत्याधुनिक सुविधाओं के साथ यह स्कूल निश्चित रूप से एक बेहतर समाज बनाने में अहम भूमिका निभाएंगे।

  • कश्मीर में जहां आबादी की जरूरत के हिसाब से स्वास्थ्य संबंधी सेवाएं बेहतर नहीं हैं, इस मुहिम के द्वारा नियमित रूप से स्वास्थ्य देखभाल कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है।

Comments

Most Popular

To Top