Army

इसलिए बंद होगा ‘निर्भय’ मिसाइल प्रोजेक्ट?

Missile-Nirbhaya

बार-बार नाकामी के बाद रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) का स्वदेशी क्रूज मिसाइल प्रोजेक्ट ‘निर्भय’ बंद होने की कगार पर है।

रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) का स्वदेशी क्रूज मिसाइल प्रोजेक्ट ‘निर्भय’ बंद होने के कगार पर है। पिछले बारह साल के दौरान निर्भय का 4 बार परीक्षण किया गया लेकिन हर बार नाकामी ही मिली। नाकामी के कारणों की जल्द ही समीक्षा की जाएगी। माना जा रहा है कि निर्भय प्रोजेक्ट को बंद कर दिया जाएगा।





2004 में निर्भय मिसाइल के लिए 48 करोड़ रुपए मंजूर किए गए थे और इस प्रोजेक्ट को पूरा करने की आखिरी तारीख 31 दिसंबर 2016 थी। 2013 से ‘निर्भय’ के 4 टेस्ट किए गए लेकिन लेकिन DRDO ने प्रोजेक्ट पर लगभग 100 करोड़ खर्च कर डाले। अमूनन एक टेस्ट में करीब 10 करोड़ रुपए खर्च होते हैं।

प्रोजेक्ट से जुड़े वैज्ञानिक हार्डवेयर से जुड़ी दिक्कतों को नहीं पकड़ पा रहे हैं। जिसकी वजह से निर्भय मिसाइल टेस्ट के दौरान अपनी दिशा से भटक जाता है। इसके लिए रिसर्च सेंटर इमारत (RCI) परियोजना से जुड़े सॉफ्टवेयर तैयार करने वाली संस्था एरोनॉटिकल डेवलपमेंट इस्टेब्लिस्मेंट (ADE) को उसके सॉफ्टवेयर के लिए दोषी ठहरा रहा है तो वहीं ADE आरसीआई के हार्डवेयर में खामियां बता रहा है। सूत्रों को मुताबिक, प्रोजेक्ट के लिए शुरू से ही सॉफ्टवेयर को लेकर दिक्कतें रही हैं। ADE और RCI के बीच शुरू से इस पर मतभेद थे।

परियोजना से जुड़े एक वैज्ञानिक के मुताबिक, निर्भय मिसाइल के तय ऊंचाई और गति तक पहुंचते ही बूस्टर मोटर से अलग हो जाता है और टबरफैन इंजन आगे के प्रक्षेपण के लिए खुद ही काम करने लगता है।

कब-कब फेल हुआ निर्भय

  • 12 मार्च, 2013 को बीच रास्ते में ही समाप्त करना पड़ा
  • 17 अक्तूबर, 2014 को दूसरी उड़ान आंशिक रूप से सफल रही
  • 16 अक्तूबर, 2015 को हुए परीक्षण को 11 मिनट के बाद रोकना पड़ा
  • 21 दिसंबर, 2016 को परीक्षण भी फेल रहा, प्रक्षेपण के कुछ समय बाद ही डिस्ट्राय करना पड़ा

Comments

Most Popular

To Top