Army

आतंकियों से लड़ते मेजर शर्मा ने दे दी जान, कहकर गए थे- जल्द लौटूंगा घर

मेजर केतन शर्मा

नई दिल्ली। दक्षिण कश्मीर के अनंतनाग में सोमवार को आतंकवादियों से लड़ते हुए सेना के मेजर केतन शर्मा शहीद हो गए। मेजर शर्मा का पार्थिव शरीर आज मेरठ स्थित उनके घर पर लाया जाएगा। 29 साल के मेजर शर्मा अभी कुछ ही दिन पहले छुट्टी से वापस ड्यूटी पर लौटे थे और परिवार से वादा किया था- ‘जल्द ही वापस घर आऊंगा।’ परिवार वालों का ढांढस बढ़ाने पहुंचे सेना के जवानों को देखकर मेजर शर्मा के परिजन रो पड़े और उनके गले लिपट गए।





सूत्रों के मुताबिक, शहीद मेजर का पार्थिव शरीर आज मेरठ लाया जा सकता है। मेरठ के मेजर केतन शर्मा को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और सेना प्रमुख बिपिन रावत श्रद्धांजलि देंगे। मेजर शर्मा के घर आज पहुंचे सेना के जवानों को देखकर उनके परिवार वाले रो पड़े। जवानों को देखकर मेजर की मां रोते हुए बार-बार एक ही सवाल पूछ रही थीं- मुझे बताओ, मेरा शेर बेटा कहां गया ? मुझे बता दो मेरा बेटा कब आएगा ?

मेजर की मां को ढ़ाडस देते सेना के जवान

मेजर केतन शर्मा साल 2012 में सेना में शामिल हुए थे। मेजर शर्मा के परिवार में 04 साल की बेटी कैरा और पत्नी इरा शर्मा हैं। वह 27 मई को छुट्टी से वापस कश्मीर गए थे। इस बीच राज्य सरकार ने शहीद मेजर के परिवार को 25 लाख रुपये की सहायता का ऐलान किया है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि शहीद के परिवार के एक सदस्य को सरकारी नौकरी दी जाएगी। उन्होंने कहा कि शहीद की याद में एक सड़क का नामकरण किया जाएगा। पूरा प्रदेश और देश शहीद के साथ खड़ा है।

Comments

Most Popular

To Top