Army

वीडियो : नौगाम में शहीद नेपाली मूल के जवानों को विदाई

जम्मू-कश्मीर के नौगाम में एनकाउंटर

सोलन। जम्मू-कश्मीर के नौगाम सेक्टर में शहीद हुए हिमाचल के तीन वीर सपूत बुधवार दोपहर बाद तिरंगे में लिपट कर सोलन पहुंच गए। अपने लाडलों के अंतिम दर्शन के लिए उनके परिजन भी नेपाल से सुबाथू आ गए हैं। तीनों शहीद जवानों को अंतिम विदाई देने के लिए पूरा सोलन उमड़ आया। सेना, पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने शहीद जवानों को सलामी दी।





जम्मू-कश्मीर के नौगाम सेक्टर में आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में शहादत पाने वाले 14 जीटीसी गोरखा रेजिमेंट सुबाथू के तीन जवानों का बुधवार को सैन्य व राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। इससे पहले मंगलवार को उनके पार्थिव शरीर को सेना की पश्चिमी कमान के मुख्यालय चंडी मंदिर में रखा गया था, जो बुधवार दोपहर बाद सोलन पहुंच गए।

गोरखा रेजीमेंट के यह जवान एलओसी से सटे नौगाम सेक्टर में तैनात थे। शनिवार रात को आतंकवादियों ने उन पर हमला कर दिया। मुठभेड़ में तीन भारतीय सैनिकों ने भारत माता की रक्षा करते हुए अपने प्राण न्योछावर कर दिए। 14 गोरखा प्रशिक्षण केंद्र सुबाथू से प्रशिक्षण प्राप्त करके 1/4 जीआर में तैनात हवलदार गिरीश गुरुंग व 4/1 जीआर के राइफलमैन राबिन शर्मा मौके पर ही शहीद हो गए, जबकि 4/1 जीआर के हवलदार दमर बहादुर पन ने अगले दिन दम तोड़ा।

हवलदार गिरीश गुरुंग गांव नागीधार जिला काशी नेपाल, हवलदार डमर बहादुर पुन गांव कारिंग जिला कोलमी नेपाल व राइफलमैन रॉबिन शर्मा गांव चूना जिला परबत नेपाल के रहने वाले थे। सोमवार को दोपहर बाद सेना के हेलीकॉप्टर से तीनों शहीदों के पार्थिव शरीर सुबाथू लाए गए, लेकिन यहाँ शवगृह की व्यवस्था न होने के कारण उन्हें चंडी मंदिर भेज दिया गया था।

हिन्दू संस्कृति के अनुसार तीनों शहीदों के परिजनों ने अंतिम संस्कार की रस्में अदा कीं​। अंतिम संस्कार के दौरान सामाजिक न्याय मंत्री कर्नल धनीराम शांडिल, सांसद विरेंद्र कश्यप, सोलन के डीसी राकेश कंवर, एसपी अंजुम आरा और एसडीएम संदीप नेगी व अन्य अधिकारी उपस्थित रहे। कर्नल धनीराम शांडिल ने इस घटना पर गहरा दुख व्यक्त किया और शहीदों के परिवारों के प्रति संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा कि शहीदों के परिवारों के लिए प्रदेश सरकार हरसम्भव सहायता प्रदान करने के लिए वचनबद्ध है। शहीदों के परिवार के बच्चों को पढ़ाई के लिए सरकार की ओर से मदद का आश्वासन दिया।

Comments

Most Popular

To Top