Army

कश्मीरियों की सेना से अपील- हर घर में बनाओ बंकर

जम्मू-कश्मीर में बंकर

श्रीनगर। कश्मीर में पाकिस्तानी आर्मी की तरफ से फायरिंग के बाद सीमावर्ती क्षेत्रों में अपना घर छोड़ने के लिए मजबूर हुए लोग शिविरों में रहने को विवश हैं। अच्छी खबर यह है कि इन लोगों ने सरकार से अपने घरों पर व्यक्तिगत बंकर बनाए जाने की मांग की है। पाकिस्तान की ओर से अक्सर बारी गोलीबारी की वजह से करीब चार महीने पहले राजौरी जिले में LoC पर 23 बस्तियों में रहने वाले पांच हजार से अधिक लोगों को मजबूर होकर अपने घरों को छोड़ना पड़ा।





जिला विकास आयुक्त शाहिद इकबाल चौधरी ने कहा कि सरकार नागरिकों की सुरक्षा के लिए नियंत्रण रेखा पर करीब 7,000 ‘व्यक्तिगत और समुदायिक’ भूमिगत बंकर बनाने की योजना बना रही है। इस संबंध में परियोजना रिपोर्ट को मंजूरी और फंड के लिए केंद्र के पास भेजा जा चुका है। उन्होंने बताया कि सरकार ने स्थानीय क्षेत्र विकास निधि के तहत सबसे ज्यादा प्रभावित नौशेरा जिले में 100 बंकरों का निर्माण शुरू कर दिया है और कार्य प्रगति पर है।

राजौरी के अलग-अलग सेक्टरों में पाकिस्तान की ओर से की गई फायरिंग में चार नागरिकों की मौत हो गई जबकि पांच अन्य घायल हो गए। स्थानीय लोगों ने कल गृह मंत्री राजनाथ सिंह से हर घर के लिए व्यक्तिगत बंकर बनाने की मांग की थी। राजनाथ सिंह सोमवार को नौशेरा में सरकार द्वारा स्थापित किए गयए छह शिविरों में से एक का दौरा करने पहुंचे थे।

सीमावर्ती गांव कल्सियान के सरपंच के मुताबिक अगर सभी निवासियों को उनके घरों पर बंकर मिलते हैं तो कोई भी नियंत्रण रेखा पर बसे गांवों को नहीं छोड़ेगा, चाहे पाकिस्तान कितनी भारी गोलीबारी क्यों ना करें। वहीं नौशेरा के विधायक ने भी उनकी मांग का समर्थन किया। उन्होंने कहा, ‘भूमि का एक हिस्सा नियंत्रण रेखा पर रहने वाले लोगों को उपलब्ध कराया जाना चाहिए ताकि वे सुरक्षित ठिकाना बना सकें।’

मालूम हो कि पाकिस्तान की तरफ से होने वाली गोलाबारी की वजह से नौशेरा सेक्टर के पांच स्कूलों में बने शिविरों में रहने को मजबूर सीमावर्ती निवासी 4 महीने बाद भी अपने घर जाने में हिचक रहे हैं, क्योंकि पाकिस्तान की तरफ से बार-बार गोलाबारी होती रहती है।

गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह और जम्मू कश्मीर के उप मुख्यमंत्री निर्मल सिंह के साथ कल शिविर में रहने वाले पुरुष, महिलाओं और बच्चों से बातचीत की। गृह मंत्री ने सीमा पर रहने वाले लोगों से कहा कि कुछ और वक्त रुकिये, पाकिस्तान को गोलीबारी बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। वे चाहे गोलीबारी आज बंद करें या कल, उन्हें गोलीबारी और संघर्ष विराम उल्लंघन रोकना पड़ेगा।  उन्होंने आगे कहा कि सीमा पर रहने वाले लोगों की समस्याओं को सुलझाने के लिए जो कुछ भी संभव होगा, मैं करुंगा।

Comments

Most Popular

To Top