Anya Smachar

जनरल जोगिंदर जसवंत सिंह : सिपाही का पोता जनरल

जनरल जोगिंदर जसवंत सिंह एक ऐसे परिवार से ताल्लुक रखते हैं जिसकी तीन पीढ़ियां फौज में रही हैं। भारतीय सेना के 22वें चीफ….

जनरल जोगिंदर जसवंत सिंह एक ऐसे परिवार से ताल्लुक रखते हैं जिसकी तीन पीढ़ियां फौज में रही हैं। भारतीय सेना के 22वें चीफ रहे जनरल जेजे सिंह का जन्म 17 सितंबर 1945 को समा सठा, पंजाब (पाकिस्तान) में हुआ। विभाजन के बाद उनका परिवार पटियाला चला आया।





जनरल जेजे सिंह ने भारत-पाकिस्तान युद्ध 1971 की लड़ाई के अलावा करगिल युद्ध 1999 में अहम योगदान दिया। उस समय वह सैन्य अभियान के अतिरिक्त महानिदेशक थे और उनकी तब की सेवाओं के लिए अति विशिष्ट सेवा मेडल (AVSM) से सम्मानित किया गया था। इससे पहले 1991 में जम्मू-कश्मीर के बारामुला सेक्टर में आतंकियों से लोहा लेते हुए जख्मी भी हुए थे। उन्हें इसके लिए War Wound Medal (WWM) दिया गया था। जनरल जे जे सिंह एक अच्छे पर्वतारोही भी हैं।

जनरल जे जे सिंह अरुणाचल प्रदेश के गवर्नर भी रह चुके हैं। उन्होंने गवर्नर के रूप में अरुणाचल प्रदेश को आगे बढ़ाने में अहम भूमिका निभाई। उनके राज्यपाल बनने के बाद भारत सरकार ने अरुणाचल प्रदेश के ढांचागत सुविधाओं के लिए बीस हजार करोड़ रुपए का पैकेज घोषित किया था।

  • नेशनल डिफेंस एकेडमी से रक्षा विज्ञान में स्नातकोत्तर
  • 2 अगस्त 1964 को भारतीय सेना में शामिल
  • 31 जनवरी 2005 से 30 सितंबर 2007 तक सेनाध्यक्ष रहे
  • 27 जनवरी 2008 से 2013 तक अरुणाचल प्रदेश के राज्यपाल रहे
  • हिंदी, अंग्रेजी, पंजाबी के अलावा फ्रेंच और अरबी भाषा के जानकार
  • हिमालयन पर्वतारोहण संस्थान, दार्जिलिंग में तेनजिंग नॉरगे से पर्वतारोहण का प्रशिक्षण लिया

अवार्ड और सम्मान

  • परम विशिष्ट सेवा मेडल (PVSM), अति विशिष्ट सेवा मेडल (AVSM), विशिष्ट सेवा मेडल (VSM)
  • 11 अप्रैल 2016 को फ्रांस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘ऑफिसर ऑफ द लिजियन ऑफ ऑनर’

Comments

Most Popular

To Top