Army

पाकिस्तान को खरी-खरी, घुसपैठ रोको वरना… : भारत

नियंत्रण रेखा

नई दिल्ली। भारत ने पाकिस्तान के समक्ष अपना पक्ष स्पष्ट कर दो टूक कह दिया है कि अगर पाकिस्तानी सेना घुसपैठ को बढ़ावा देती रही और बॉर्डर के पार से गोलाबारी करती रही, तो भारतीय सेना इसके खिलाफ उचित जवाबी कार्रवाई करेगी।





  • भारत के मुंहतोड़ जवाब के बाद अब पाकिस्तान शांति की बात कर रहा

डीजीएमओ के बयान में कहा गया है, ‘अगर पाकिस्तानी सेना घुसपैठ की कोशिश करती रहेगी, जिसके नतीजे में क्रॉस फायरिंग होती है तो भारतीय सेना जरूरी जवाबी कार्रवाई करेगी।’ लेफ्टिनेंट जनरल एके भट्ट ने ये बात अपने पाकिस्तानी समक्षक मेजर जनरल साहिर शमशाद मिर्जा से कही है। सीमा पर तनाव को लेकर पाकिस्तान के डायरेक्टर जनरल ऑफ मिलिट्री ऑपरेशन (डीजीएमओ) ने भारत के डीजीएमओ से सोमवार सुबह 10:30 बजे फोन पर बातचीत की। इस बातचीत के लिए पाकिस्तान के डीजीएमओ ने अनुरोध किया था। दोनों अधिकारियों के बीच एलओसी के मौजूदा हालात पर चर्चा हुई।

बार-बार सीज़फायर के उल्लंघन के बीच भारत के मुंहतोड़ जवाब के बाद अब पाकिस्तान शांति की बात कर रहा है। बयान के मुताबिक भारतीय डीजीएमओ लेफ्टिनेंट जनरल एके भट्ट ने पाकिस्तान को बताया कि भारत शांति के लिए प्रतिबद्ध है जो कि पाकिस्तान की कार्रवाई से खराब हुई है।

भारतीय पक्ष ने कहा कि हम सीमा पर शांति बनाए रखना चाहते हैं। लेकिन यह पाकिस्तान के इरादों और कदमों पर निर्भर है। अगर पाकिस्तानी सेना घुसपैठ को बढ़ावा देती रही और एलओसी के पार फायरिंग करती रही, तो भारतीय सेना उचित जवाबी कार्रवाई करेगी। इस सिलसिले में पाकिस्तानी सेना के बेवजह उकसावों की ओर ध्यान आकर्षित किया गया। पाकिस्तान के डीजीएमओ ने नागरिकों के मारे जाने का मुद्दा उठाया, जिस पर भारतीय पक्ष ने उन्हें कहा कि हमारी सेना प्रोफेशनल है और नागरिकों को किसी तरह से नुकसान नहीं पहुंचाएगी।

दरअसल 2 मई से ही भारत और पाकिस्तान के बीच सीमा पर तनाव है। जब 2 मई को पाकिस्तानी सेना की स्पेशल फोर्स ने भारतीय सीमा में घुसकर दो भारतीय जवानों के सिर कलम कर दिए थे, तब से ही भारत सीमा और नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान का मुंहतोड़ जवाब दे रहा है। हालांकि, पाकिस्तान ने इन आरोपों को खारिज किया था।

Comments

Most Popular

To Top