Army

ये है भारत का जवाब-दो चौकी ध्वस्त, 7 सैनिक मार गिराए

भारतीय सेना

नई दिल्ली। भारत ने जम्मू-कश्मीर में पुंछ के कृष्णा घाटी में सेना पर हमला करने की पाकिस्तान की कायराना हरकत का मुंहतोड़ जवाब दे दिया है। भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई करते हुए पाकिस्तान से गोलीबारी करने वाली दोनों चौकियों को पूरी तरह तबाह कर दिया है। सेना की तरफ से की गई इस कार्रवाई में पाकिस्तान के सात सैनिक मारे गए हैं। पाकिस्तान की तरफ से इन्हीं चौकियों से कल (1 मई) गोलाबारी की गई जिसमें दो भारतीय जवान शहीद हो गए थे। पाकिस्तान के इन दोनों पोस्टों पर 647 मुजाहिदीन बटालियन के करीब 10 से 16 सैनिक तैनात थे।





 परमजीत-और-प्रेम-सागर

दोनों के शवों के साथ पाकिस्तान की BAT टीम ने की बर्बरता (फाइल फोटो)

जवानों के सर काट कर ले गई बॉर्डर एक्शन टीम

समाचार एजेंसी पीटीआई ने सेना के सूत्रों के हवाले से खबर दी थी कि पाकिस्तानी सेना की बॉर्डर एक्शन टीम (BAT) ने भारतीय सीमा में 250 मीटर अंदर घुसकर दो सैनिकों के शवों के साथ बर्बरता की और BSF जवान परमजीत और प्रेम सागर के सिर काटकर ले गए थे।

सूत्रों के मुताबिक, तबाह की गई दोनों पोस्ट किरपान और पिंपल पोस्ट जम्मू के मेंढर सेक्टर में मौजूद कृष्णा घाटी के सामने है। कहा ये भी जा रहा है कि पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम की 647 मुजाहिद बटालियन ने LoC पर हुए हमले को अंजाम दिया था। बटालियन के सदस्यों को घुसपैठ के लिए पाकिस्तान आर्मी की ओर से किरपान और पिंपल पोस्ट से कवर दिया गया था।

सेना के JCO और BSF के हेड कांस्टेबल शहीद

पुंछ में शहीद होने वाले जवानों में सेना के JCO नायब सूबेदार परमजीत सिंह और BSF के हेड कांस्टेबल प्रेम सागर शामिल हैं। परमजीत सिंह साल 1995 में देश की सेवा की खातिर सेना में भर्ती हुए थे। वहीं, शहीद प्रेम सागर BSF की 200वीं बटालियन में तैनात थे। वह 1994 में BSF में भर्ती हुए। पिछले तीन साल से जम्मू के सांबा में तैनात थे।

पुंछ हमले की रक्षा मंत्री अरुण जेटली ने हमले की निंदा की है। अरुण जेटली ने कहा, ‘हमारे पड़ोसियों ने कृष्णा घाटी में हमारे दो जवानों मारकर उनके शव के साथ बर्बरता की। यह एक अमानवीय घटना है, ऐसी घटनाएं युद्ध के दौरान भी नहीं होतीं शांति के दौरान तो निश्चित ही नहीं होती हैं। पूरे देश को सेना पर भरोसा है, भारत हमले का करारा जवाब देगा। शहीदों की शहादत बेकार नहीं जाएगी।’

पाकिस्तान की कायराना करतूत

पाकिस्तान अपनी कायराना हरकत से मुंह चुरा रहा है। पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा, ‘पाकिस्तानी सेना ने किसी भी तरह सीज फायर का उल्लंघन नहीं किया। जवानों के साथ बर्बरता का आरोप गलत है। पाकिस्तान की सेना प्रोफेशनल है और जवान के साथ असम्मानजनक हरकत नहीं करती।’

आतंकी शिविरों का सफाया जरूरी

पाकिस्तान सुधरने का नाम नहीं ले रहा है। जानकारों का कहना है कि पाकिस्तान को सबक सिखाने के लिए भारत को आक्रामक रुख बरकरार रखना पड़ेगा यानी पाकिस्तान को सर्जिकल स्ट्राइक की ही तरह एक बड़ी सर्जरी की जरूरत है।भारत में घुसकर हमला करने वाले पाकिस्तानी आतंकियों को पाकिस्तानी सेना का पूरा समर्थन मिलता है। सीमा के पास ही आतंकियों के ट्रेनिंग कैंप चलते हैं और मौका मिलते ही ये आतंकवादी भारत में घुस जाते हैं। जानकारों के मुताबिक भारत को इन शिविरों को निशाना बनाना चाहिए।

पाकिस्तान की बर्बर BAT टीम

पाकिस्तान की आतंकियों जैसी क्रूर बैट टीम ने पहली बार भारतीय जवानों के शव के साथ बर्बरता की हो ऐसा नहीं है। साल 1999 में पाकिस्तान सेना द्वारा करगिल संघर्ष के दौरान कैप्टन के शव के साथ भी बर्बरता की गई थी। फरवरी 2000 में मराठा रेजिमेंट के जवान भाव साहेब मारुति कालेकर के शव के साथ पाकिस्तान सैनिकों ने बर्बरता की।

इसके बाद साल 2008 में गोरखा रेजिमेंट का एक जवान रास्ता भटक कर एलओसी के पार पहुंच गया था। इसके बाद पाकिस्तानी सेना ने ना सिर्फ उन्हें प्रताड़ित किया बल्कि उनके शव के साथ भी बर्बरता की। साल 2013 को तो भुलाया नहीं जा सकता जब इन्हीं कायर BAT कमांडो शहीद हेमराज का सिर काटकर अपने साथ ले गए थे। साल 2016 में भी इसी तरह की दो घटनाएं हुईं थी।

Comments

Most Popular

To Top