Army

सेना को 10 साल बाद मिले 7 लाख मॉडर्न बुलेटप्रूफ हेलमेट

indian army new bullet proof helmet

नई दिल्ली। भारतीय सेना के जवानों के लिए उनका बुलेटप्रूफ हेलमेट उनकी सुरक्षा किट का एक अहम हिस्सा साबित होता है, लेकिन प्रतिकूल परिस्थितियों में लड़ते भारतीय सेना के जवान इस बुनियादी जरूरत से वंचित थे, लेकिन 10 साल बाद अब उनकी ये जरूरत पूरी हो गई है। भारतीय सेना ने कानपुर स्थित एमकेयू (Military & Armed Forces Equipment Manufacturer) इंडस्ट्रीज से बुलेट प्रूफ हेलमेट की पहली किश्त प्राप्त कर ली है। हेलमेट निर्माता कम्पनी के साथ  180 करोड़ रुपये की लागत से 1.58 लाख हेलमेट बनाने का करार किया गया था।





9 मिमी की गोली सहन करने की क्षमता

सूत्रों के मुताबिक, निर्माता कंपनी का दावा है, एमकेयू का दावा है कि बुलेट प्रूफ हेलमेट बैलिस्टिक लैब टेस्ट के माध्यम भारत और जर्मनी में कंपनी के परीक्षण सुविधाओं के मुताबिक कठोर गुणवत्ता परीक्षण किए जाने के बाद ही जारी किए गए हैं। ये नये हेलमेट 9 मिमी शोर्ट रेंज की गोली के प्रभाव को सहन करने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं। ये हेलमेट, सशस्त्र बलों के वैश्विक मानकों से मेल खाती है और उनकी जरूरतों को पूरा करता है। आपको बता दें MKU विभिन्न देशों के लिए मिलट्री सुरक्षा उपकरण बनाने वाली अग्रणी कंपनी है।

Military & Armed Forces Equipment Manufacturer

Military & Armed Forces Equipment Manufacturer

एक मिलियन हेलमेट का निर्माण करेगी कम्पनी

MKU के मैनेजिंग डायरेक्टर नीरज गुप्ता के अनुसार, ‘सिर शरीर का बहुत ही सवेदनशील हिस्सा है जो किसी भी ऑपरेशन या मुकाबले के दौरान सबसे जल्दी घायल हो सकता है। आंकड़ों पर गौर करें तो, 26 से 28 प्रतिशत जवानों की मौत सिर्फ सिर में लगने वाली चोटों के कारण हुई है।, हम भारतीय सेना को 7 लाख और विभिन्न सशस्त्र बलों को कुल एक मिलियन हेलमेट देने की उम्मीद कर रहे हैं आपको बता दें कि इससे पहले सरकार ने इजरायल से करीब 10 साल पहले भारतीय सेना की स्पेशल फोर्स के लिए इजरायल के OR-201 हेलमेट्स मंगवाए गए थे।

मार्च में सरकार के समक्ष रखा गया था प्रस्ताव

इस साल मार्च में सरकार के थिंक टैंक नीति आयोग ने सेना और अर्धसैनिक बलों के लिए हल्के वजन वाले शरीर के हथियारों के घरेलू निर्माण पर ध्यान देने के लिए एक ड्राफ्ट नोट तैयार किया था। प्रधान मंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने नीति आयोग को इस मुद्दे को प्रोत्साहित करने की संभावना पर एक रोडमैप तैयार करने के लिए कहा गया था।
एक अनुमान के अनुसार, देश में पुलिस बल के लिए 50,000 से अधिक बुलेट प्रूफ किट की आवश्यकता है।

bolt free bulletproof helmet

भारत सरकार ने कंपनी को बोल्ट फ्री हेलमेट बनाने के लिए भी बात की है

 

एडवांस हेलमेट के लिए भी कंपनी को दिए गए है आर्डर

बुलेट प्रफ हैलमेट इस्तेमाल बैटमैन के बैटसूट और कैप में किया जाता है। इस हेलमेट के आ जाने के बाद अब दुश्मनो के खिलाफ प्रबल तरीके से लड़ने में आसानी होगी। ये हेलमेट सुविधाजनक भी हैं और उनके भीतर संचार उपकरण को भी लगाया जा सकता है। इसके साथ ही भारतीय सेना ने बोल्ट-फ्री बैलेसटिक हेलमेट के बोल्डेट वर्जन के लिए भी ऑर्डर दिया है। हालांकि यह हेलमेट भारतीय सेना की लिस्ट में शामिल नहीं है। बोल्ड-फ्री एडवांस तकनीकी और महंगे वर्जन वाले हेलमेट्स है, जो जवानों को कई प्रकार की सुरक्षा देता है और इससे पूरा सिर चोट से बचा रहता है।

Comments

Most Popular

To Top