Army

पाकिस्तान के आग्रह पर दोनों देशों के DGMO में बातचीत, भारत ने ऐसे दिया जवाब

डीजीएमओ-मीटिंग

श्रीनगर। भारत-पाकिस्तान के बीच तनातनी की घटना कोई नई बात नहीं है। भारत अक्सर पाकिस्तान की ओर से गोलीबारी का मुंहतोड़ जवाब देता रहा है। सोमवार को भारत-पाकिस्तान के डीजीएमओ स्तर की बातचीत हुई। खबरों के मुताबिक पाकिस्तान ने भारत से वार्ता के लिए अनुरोध किया था जिसमें डीजीएमओ लेवल की हॉटलाइन बातचीत हुई।





पाकिस्तानी डीजीएमओ ने आरोप लगाया कि भारतीय सुरक्षा बल LoC पर बिना उकसावे के फायरिंग कर रहे हैं। जिसपर भारतीय डीजीएमओ ने कहा कि भारतीय जवानों ने तभी जवाबी फायरिंग की जब आतंकियों को पाकिस्तानी आर्मी की तरफ से समर्थन दिया गया। उन्होंने आगे कहा कि हमारी सेना सदैव उच्च मापदंडों का पूर्ण पालन करती है और कभी भी नागरिकों को निशाना नहीं बनाया। 18 सितंबर 2016 में जम्मू-कश्मीर स्थित बीएसएफ कैंप पर हुए आतंकी हमले के बाद से ही दोनों देशों के बीच तनातनी बढ़ गई है। उड़ी हमले के बाद भारत ने पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर में सीमा पार करके की गयी सर्जिकल स्ट्राइक में कई आतंकियों और उनके ठिकाने नेस्तनाबूद कर दिए थे।

जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ की घटनाओं और बगैर उकसावे के फायरिंग में बेतहाशा बढ़ोतरी हुई है। पाकिस्तान ने कश्मीर में आतंकवाद को काफी बढ़ावा दिया है। दूसरी तरफ पिछले एक साल में भारतीय सेना ने खास अभियान के मद्देनजर जम्मू-कश्मीर में सक्रिय सौ से ज्यादा आतंकियों को विभिन्न एनकाउंटरों में मार गिराया। भारत-पाकिस्तान के बीच तनाव का माहौल अंतर्राष्ट्रीय मंच पर भी दिखा। पाकिस्तान ने जहां कश्मीर राग अलापा वहीं भारत ने संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान पर मसूद अजहर, जकिउर्रहमान लखवी और लश्कर-ए-तैयबा चीफ हाफिज सईद जैसे आतंकियों को शरण देने का आरोप लगाया।

Comments

Most Popular

To Top