Army

दो मोर्चों पर युद्ध के लिए रहना होगा तैयार: सेना प्रमुख   

बिपिन-रावत

नई दिल्ली। डोकलाम गतिरोध भले ही समाप्त हो गया हो लेकिन भारतीय थल सेना प्रमुख बिपिन रावत ने एक बार फिर दो मोर्चों पर युद्ध के अंदेशे को खारिज नहीं किया है। मीडिया में चल रही खबरों के मुताबिक उन्होंने कहा कि उत्तर में चीन और पश्चिम में पाकिस्तान के साथ लड़ाई के अंदेशे को नकारा नहीं जा सकता। उन्होंने जोर दिया कि सेना को दो मोर्चों पर भिड़ंत के लिए तैयार रहना होगा।





थल सेना प्रमुख बुधवार को राजधानी में भविष्य की जंग विषय पर आयोजित एक सेमीनार को संबोधित कर रहे थे। उत्तर की स्थिति पर उन्होनें कहा कि चीन ने अपनी ताकत दिखानी शुरू की है। उन्होंने कहा कि चीन ‘ salami slicing ‘यानी थोड़ी-थोड़ी जमीन पर कब्जा करने की कोशिश कर हमारी बर्दाशत करने की क्षमता आंक रहा है। हमें इसके लिए तैयार रहना होगा।

उन्होंने युद्ध को हकीकत बताते हुए कहा कि यह मिथक है कि परमाणु क्षमता वाले देश युद्ध नहीं करते। एक न्यूज वेबसाइट के मुताबिक सेना प्रमुख ने कहा, ‘परमाणु हथियार प्रतिरोध के हथियार हैं। हां, वे प्रतिरोध के हथियार हैं। लेकिन यह कहना कि वे युद्ध रोक देंगे या वे देशों को लड़ने नहीं देंगे, हमारे संदर्भ में सही नहीं हो सकता।’

जनरल रावत ने कहा कि फिलहाल जो हालात है उसमें संभव है कि जब भारत उत्तर में चीन से उलझा हो तो पश्चिम में पाकिस्तान इसका फायदा उठाने की कोशिश करे। इसलिए भारत तो दो मोर्चों पर युद्ध के लिए तैयार रहना होगा।

Comments

Most Popular

To Top