Army

8 साल से अटका LoC के लिए फुल बॉडी स्कैनर का मामला

भारत-पाकिस्तान सीमा

देश की सुरक्षा से जुड़े मंत्रालय में भी लालफीताशाही का असर दिखता है। पिछले 8 सालों से केंद्रीय गृह मंत्रालय में फुल बॉडी स्कैनर खरीदने की प्रक्रिया चल रही है।

नई दिल्ली। देश की सुरक्षा से जुड़े मंत्रालय में भी लालफीताशाही का असर दिखता है। पिछले 8 सालों से केंद्रीय गृह मंत्रालय में फुल बॉडी स्कैनर खरीदने की प्रक्रिया चल रही है। दफ्तरों की लापरवाहीपूर्ण कार्यशैली की वजह से यह मामला सरकारी कागजों में  दबा हुआ है।





दरअसल साल 2009 से मंत्रालय ने फुल बॉडी स्कैनर खरीदने की प्रक्रिया शुरू की थी। यह स्कैनर जम्मू-कश्मीर के उन चेक पोस्टों पर लगाए जाएंगे जहां से नियंत्रण रेखा के आर-पार व्यापार होता है, यानी चकांदाबाद और सलमाबाद। इनके जरिए जो भी ट्रक पाकिस्तान की ओर से भारत आ रहे हैं, उन्हें स्कैन किया जा सकेगा ताकि उनमें कोई गैरकानूनी सामान भारत स्मगल न किया जा सके।

सूत्रों के मुताबिक, यह प्रस्ताव तब आया था जब पी चिदंबरम गृह मंत्री थे, लेकिन लालफीताशाही के चलते इस पर अभी तक अमल नहीं हुआ है। उन्होंने कहा कि यह स्कैनर लगाना आसान नहीं, अगर आज भी मंत्रालय खरीद लेता है तो जगह पर फिक्स करने के लिए एक साल लग सकता है, क्योंकि यह कई पार्ट्स में आता है। फिलहाल, मंत्रालय दो बॉडी स्कैनर खरीदने जा रहा है, इनकी कीमत करोड़ों में है। खास बात यह है कि इन्हें भारत की कम्पनी बना रही है, लेकिन मामला किसी न किसी फाइल में अटका पड़ा है।

साभार: KHABAR NDTV

Comments

Most Popular

To Top