Army

अच्छा तो ये है ‘फौजी कट’ के पीछे की कहानी

फौजी कट

हम फौजियों को हमेशा ही छोटे और एक जैसे हेयरकट में देखते हैं जिसे आम तौर पर ‘फौजी कट’ के नाम से जाना जाता है। आम ब्वॉयज भी स्टाइलिश दिखने के लिए सैलून में इस पॉप्युलर हेयर कट की डिमांड करते हैं। आप शायद नहीं जानते होंगे कि आर्मी सोल्जर्स की इस फौजी कट के पीछे की वास्तविक कहानी क्या है। ये हेयरकट आम नागरिकों के लिए एक फैशनेबल और स्टाइलिश चीज हो सकती है लेकिन युद्ध के मैदान में लड़ने वाले सैनिकों के लिए यह एक महत्वपूर्ण चीज है। आइए जानते हैं मिलिट्री कट से जुड़ी ये खास बातें।





नहीं पड़ती जुएं

ज्यादातर समय युद्धस्थल पर बिताने के कारण नहाने, बालों को धोने और उनके रख-रखाव का ज्यादा समय नहीं होता। इसलिए जवानों को बाल छोटे रखना ज्यादा सुविधाजनक होता है।

फौजी कट

फौजी कट (फाइल फोटो)

ध्यान भंग कर सकते हैं बड़े बाल

बड़े बाल कई बार कंधे पर रखी उनकी राइफल में न उलझें या उनकी आंखों पर न आएं, क्योंकि लंबे बाल उन्हें उनके लक्ष्य से भटका सकते हैं, उनका ध्यान सीधा दुश्मन पर रहे इसलिए जवानों के बाल अक्सर छोटे ही होते हैं।

फौजी कट

फौजी कट (फाइल फोटो)

बीमारी से बचाव और कम खर्चा

छोटे बालों को सूखने में बहुत कम समय लगता है जबकि जवानों को यदि किसी नदी से गुजरना हो बारिश में भीगना हो तो बाल भीग जाने पर उन्हें सर्दी-जुकाम होने का डर नहीं रहता और वे जल्दी सूख जाते हैं।

भारतीय सेना

(फाइल फोटो)

प्रथम विश्वयुद्ध से शुरू हुआ था चलन

प्रथम विश्वयुद्ध के दौरान बाल छोटे रखने का चलन सर्वप्रथम अमेरिकी सेना द्वारा शुरू किया गया था। युद्ध के दौरान गैस मास्क पहनने में आने वाली परेशानी के कारण जवानों से गंजा होने की मांग की जाने लगी। छोटे बाल दुश्मन की पकड़ में न आएं इसलिए भी ये चलन शुरू किया गया।

(फाइल फोटो)

20वीं शताब्दी में किया गया अनिवार्य

द्वितीय विश्वयुद्ध के दौरान जवानों को बाल व नाखून छोटे रखने को कहा जाता था, जबकि नौसेना के जवान मीडियम हेयरकट रखते थे। 20वीं शताब्दी में धीरे-धीरे सेना खास तौर पर आर्मी, नेवी और एयरफोर्स ने इसे अपने अनुशासन में शामिल कर लिया और ये हेयरकट जवानों की पहचान बन गए।

फौजी कट

फौजी कट (फाइल फोटो)

महिलाओं पर भी लागू होती है ये बात

सेना में महिलाओं पर भी शॉर्ट इज बैटर स्टाइल लागू होती है लेकिन उन्हें अपने बालों को साफ और व्यवस्थित रखने को कहा जाता है। उन्हें अपने बाल शर्ट के कॉलर तक रखने की इजाजत होती है इसीलिए फीमेल सोल्जर्स और आॅफिसर्स को हेयर कैप पहनना पड़ती है।

भारतीय सेना

(फाइल फोटो)

एकता और अनुशासन का प्रतीक

जवानों की लाइफ बहुत ही अनुशासनात्मक होती है और वर्दी की तरह ही एक जैसा हेयरस्टाइल उनमें एकता और अनुशासन का भाव बनाए रखता है।

भारतीय सेना

(फाइल फोटो)

भले ही ये एक अनिवार्य चीज हो लेकिन जवानों ने इस मिलिट्री कट को एक स्टाइल स्टेटमेंट बना दिया है, लेकिन कुछ भी कहें ये स्टाइल जवानों के लिए शायद इसलिए भी जरूरी है, क्योंकि ये उन्हें किसी आम नागरिक से ज्यादा कॉन्फिडेंट, ज्यादा स्मार्ट और ज्यादा शार्प बनाता है।

Comments

Most Popular

To Top