Army

OROP : पूर्व सैनिकों के मोर्चे ने PM का दावा झुठलाया

भूतपूर्व-सैनिक

नई दिल्ली। पूर्व सैनिक संयुक्त मोर्चे ने उत्तर प्रदेश में चुनाव प्रचार के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सेवानिवृत्त सैनिकों के लिए एक रैंक, एक पेंशन (OROP) फार्मूला लागू करने के दावे का जवाब देते हुए इसे ‘सच्चाई से दूर’ बताया है। भारतीय भूतपूर्व सैनिक मूवमेंट (IESM) के अध्यक्ष मेजर जनरल सतबीर सिंह (सेवानिवृत्त) ने कहा कि जो लागू किया गया है वह OROP नहीं है, लेकिन पेंशन में एक बार की वृद्धि हुई है।





OROP पर एक सदस्यीय न्यायिक समिति द्वारा अक्टूबर 2016 में प्रस्तुत रिपोर्ट अभी तक सार्वजनिक नहीं की गई है। उन्होंने कहा कि मोर्चे ने जिन विसंगतियों की बात कही है, वे अभी तक न्यायमूर्ति रेड्डी समिति के सामने नहीं रखी गई हैं। सरकार ने नवंबर 2015 में अधिसूचना जारी कर विसंगतियों को देखने के लिए यह समिति बनाई थी।

उन्होंने कहा कि रक्षा मंत्री को सरकार की अधिसूचना में विसंगतियों के बारे में सूचित कर दिया गया था, अगर विसंगतियों को दूर नहीं किया गया तो OROP की आत्मा ही मर जाएगी।

Comments

Most Popular

To Top