Army

हिमाचल में वीरता के आधार पर हो सेना में भर्ती का कोटा

इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग

धर्मशाला। राज्यपाल आचार्य देवव्रत ने कहा कि हिमाचल प्रदेश में राष्ट्रीय सुरक्षा अकादमी (एनडीए) स्थापित की जानी चाहिए। प्रदेश के वीर सैनिकों के योगदान को देखते हुए जनसंख्या के बजाय वीरता के आधार पर सेना में भर्ती का कोटा मिलना चाहिए। राज्यपाल आज धर्मशाला में इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग के राज्यस्तरीय सम्मेलन की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि यह धरा वीरों के लिए है, जिसका उल्लेख वेदों तक में हुआ है। धरती पर वही जीते हैं, जो संघर्ष करते हुए विजय को प्राप्त करते हैं। एक्स सर्विसमैन लीग ने राज्यपाल के सामने मांग रखी है कि हिमाचल के जिन शहीदों ने शहादत दी है उनके बारे में यहाँ के स्कूलों में बच्चों को पढ़ाया जाना चाहिए।





इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग

इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग के हिमाचल प्रदेश अध्यक्ष मेजर विजय सिंह मनकोटिया ने राज्यपाल को स्मृति चिन्ह भेंट किया।

केवल करगिल में ही प्रदेश के 52 बहादुर सैनिक शहीद हुए

उन्होंने कहा कि देश के लिए शहादत पाने वाले इतिहास में अमर हो जाते हैं और देश उन पर गर्व करता है। राज्यपाल ने कहा कि हिमाचल प्रदेश देवभूमि ही नहीं बल्कि वीरभूमि भी है और यहां के वीर सैनिकों ने ही इसे वीरभूमि बनाया है। केवल करगिल संघर्ष में ही प्रदेश के 52 बहादुर सैनिकों ने शहादत पाई।

इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग

राज्यपाल आचार्य देवव्रत पूर्व जवानों को संबोधित करते हुए

प्रदेश में एनडीए अकादमी स्थापित की जानी चाहिए

वन रैंक-वन पेंशन का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने उनकी इस मांग को पूरा कर सैनिकों का सम्मान किया है। उन्होंने कहा कि राज्य के युवा कठिन भौगोलिक परिस्थितियों में रहकर सेना में बेहतर सेवाएं दे सकते हैं। इसलिए, सेना में उनके प्रवेश के लिए प्रदेश में एनडीए अकादमी स्थापित की जानी चाहिए ताकि अधिक से अधिक युवा सेना में अधिकारी वर्ग में प्रवेश पा सकें।  उन्होंने कहा कि सेना में भर्ती के लिए जनसंख्या के अनुपात को समाप्त करने का मामला उपयुक्त स्तर पर उठाया जाएगा।

परमवीर चक्र विजेताओं के परिजनों को भी सम्मानित किया

इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग

राज्यपाल ने इस अवसर पर परमवीर चक्र विजेताओं के परिजनों को भी सम्मानित किया। चित्र में राज्यपाल देवव्रत कैप्टन सौरभ कालिया के पिता को सम्मानित करते हुए

राज्यपाल ने इस अवसर पर परमवीर चक्र विजेताओं के परिजनों को भी सम्मानित किया उनमें कैप्टन सौरभ कालिया, मेजर सोमनाथ शर्मा और लेफ्टिनेंट कर्नल धन सिंह थापा, कैप्टन विक्रम बतरा और सूबेदार संजय कुमार शामिल हैं। इसके अलावा मेजर सुधीर वालिया को भी सम्मानित किया गया। इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग के राष्ट्रीय अध्यक्ष लेफ्टिनेंट जनरल बलबीर सिंह ने राज्यपाल का स्वागत करते हुए कहा कि हिमाचल प्रदेश के वीर जवानों ने सेना में हमेशा वीरता का प्रदर्शन किया है तथा वीरता के अनेक किस्सों से यहां का इतिहास भरा पड़ा है। उन्होंने कहा कि हमारे वीर जवानों ने आने वाले सुनहरे कल के लिए आज का त्याग किया है। इससे पहले इंडियन एक्स सर्विसमैन लीग के हिमाचल प्रदेश अध्यक्ष मेजर विजय सिंह मनकोटिया ने राज्यपाल को स्मृति चिन्ह भेंट किया।

Comments

Most Popular

To Top