Army

घाटी में सेना ऐसे तैयार कर रही भविष्य के इंजीनियर

'कश्मीर सुपर-40'

श्रीनगर। घाटी में जिन सेना के जवानों पर पत्थर बरसाए जाते हैं, उसी सेना से प्रशिक्षण लेकर जम्मू-कश्मीर के 26 लड़कों और दो लड़कियों ने इस साल IIT-JEE मेन्स परीक्षा पास की।





सेना के एक प्रवक्ता द्वारा जानकारी दी गई कि इन छात्रों को खासतौर पर सेना की ‘कश्मीर सुपर-40’ कोचिंग से तैयार किया गया है। इस साल के परिणाम ने पिछले सभी रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं। 78 प्रतिशत की सफलता दर प्राप्त करने के बाद सेना का ‘कश्मीर सुपर-40’ देश का सर्वश्रेष्ठ आईआईटी कोचिंग सेंटर बन गया है।

बताते चलें कि इस वर्ष का प्रदर्शन 28 चयनों के साथ सर्वश्रेष्ठ रहा। इनमें से दक्षिण कश्मीर से 9, उत्तर कश्मीर से 10, कारगिल/लद्दाख से सात और जम्मू क्षेत्र के दो छात्र शामिल हैं। इसके अलावा यह पहला बैच था, जिसमें पांच लड़कियों को दिल्ली में प्रशिक्षित किया गया था। इनमें से दो ने इस परीक्षा को पास किया।

श्रीनगर में सैन्य परिसर में चलता है कोचिंग सेंटर

यह कोचिंग सेंटर श्रीनगर में सैन्य परिसर में चलाया जाता है। यहाँ 40 छात्रों को JEE की तैयारी कराई जाती है। इस कोचिंग सेंटर की शुरुआत सेना ने 2013 में की। सेंटर फार सोशल रिस्पोंसिबिलिटी एंड लर्निंग (CSRL) और पेट्रोनेट एलएनजी की मदद से यह सेंटर चलाया जाता है।

बाहर के छात्रों को रहना और खाना-पीना भी मुहैया कराती है सेना

श्रीनगर से बाहर के छात्रों को रहना और खाना-पीना भी सेना द्वारा मुहैया कराया जाता है। पांच छात्राओं को सेना ने दिल्ली में कोचिंग कराई थी जिनमें से दो ने पास कर ली। श्रीनगर में रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि पिछले कुछ महीनों से जारी अशांति के बावजूद कोचिंग सेंटर में पढाई नहीं रुकी। इसी का नतीजा है कि 40 में से 28 छात्रों ने क्वालीफाई किया। सेना के मुताबिक़ सफलता को देखते हुए अगले सेशन से 50 छात्रों को कोचिंग दी जाएगी।

यूं ही नहीं मिल जाता सेंटर में एडमिशन

ऐसा नहीं है कि कोई भी छात्र चाहे तो उसे सेन्टर में एडमिशन मिल जाएगा। एडमिशन के लिए बाकायदा अलग-अलग स्कूल और कालेजों में सेना द्वारा परीक्षा आयोजित की जाती है। इसमें पास होने वाले छात्र-छात्राओं को ही इस कोचिंग सेंटर में IIT-JEE और दूसरी इंजीनियरिंग परीक्षाओं की तैयारी कराई जाती है।

Comments

Most Popular

To Top