Army

10 महीने बाद लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की शहादत का सेना ने ऐसे लिया बदला

सेना की सबसे बड़ी कार्रवाई
सेना की सबसे बड़ी कार्रवाई (फाइल)

श्रीनगर। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आतंकियों के खिलाफ इस साल की सबसे बड़ी कार्रवाई की है। रविवार को शोपियां और अनंतनाग में हुई तीन मुठभेड़ों में सेना ने 13 आतंकियों को मार गिराया, जिसमें 10 महीने पहले शहीद हुए लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की हत्या में शामिल रहे इशफाक मलिक और रियाज भी शामिल हैं। श्रीनगर स्थित 15 कॉर्प्स के जीओसी लेफ्टिनेंट जनरल ए.के. भट्ट ने कहा कि हमने उमर फैयाज की हत्या का बदला ले लिया है।





उन्होंने रविवार को हुई मुठभेड़ को हाल के वर्षों में सुरक्षाबलों का आतंकियों के खिलाफ सबसे बड़ा ऑपरेशन बताया। उन्होंने कहा, मारे गए आतंकियों की संख्या काफी ज्यादा है। इससे पहले पिछले साल सितंबर माह में भी जम्मू-कश्मीर के कुलगाम में सैन्यकर्मियों ने मुठभेड़ में लेफ्टिनेंट फैयाज की हत्या में शामिल एक अन्य आतंकवादी लश्कर कमांडर को मार गिराया था।

शादी में शरीक होने छुट्टी में घर आए थे फैयाज

बता दें कि पिछले साल 9 मई को लेफ्टिनेंट उमर फैयाज की अपहरण कर हत्या कर दी गई थी। लेफ्टिनेंट फैयाज की हत्या तब हुई थी, जब वह छुट्टी लेकर घर एक रिश्तेदार की शादी में शरीक होने पहुंचे थे। वहां से कुछ आतंकियों ने अपहरण कर उनकी हत्या कर दी।

कुलगाम के रहने वाले 23 साल के लेफ्टिनेंट उमर फैयाज 2-राजपूताना राइफल्स में तैनात थे। अपने इलाके में युवाओं के बीच फैयाज काफी लोकप्रिय थे। इतना ही नहीं, आसपास जब भी कोई प्रोग्राम होता था, तो वह जरूर जाते थे। जांच एजेंसियों ने लेफ्टिनेंट उमर फैयाज को मारने में हिज्बुल और लश्कर के करीब 10 आतंकियों के शामिल होने की बात कही गई थी।

Comments

Most Popular

To Top