Army

आर्मी कैंप पर उड़ी की तरह आतंकी हमला, कैप्टन आयुष सहित 3 जवान शहीद

कश्मीर

जम्मू। जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा जिले के पंजगाम सेक्टर में आज तड़के आतंकियों ने उड़ी की तरह हमला बोला। हथियारों से लैस आतंकियों सेना के आर्टिलरी बेस को निशाना बनाया। इस हमले में सेना के तीन जवान शहीद हुए हैं। इनके नाम हैं कानपुर (यूपी) के जाजमऊ की डिफेन्स कालोनी के रहने वाले कैप्टन आयुष यादव (26 साल), दौसा जिले के खेरला गांव निवासी सूबेदार भूप सिंह गुर्जर और बी. वी. रमन्ना। पांच जवानों के जख्मी होने की खबर है। घायल जवानों को एयरलिफ्ट कर इलाज के लिए श्रीनगर के सेना अस्पताल में लाया गया है।





जवाबी कारवाई में दो आतंकी मारे गए। एक आतंकी भागने में सफल रहा था। तीसरे आतंकी की धर-पकड़ के लिए सेना ने पंजगाम तथा उसके साथ लगते बटपोरा के गांव, करालपोरा, मंज़गाम, रावतपोरा तथा अलोसा को पूरी तरह से घेर तलाशी अभियान शुरू कर दिया है। तलाशी अभियान के दौरान लोगों को अपने के भीतर ही रहने की सलाह दी गई है। ये आतंकी जैश-ए-मोहम्मद के बताए गए हैं। क्षेत्र में कर्फ्यू जैसा माहौल बना हुआ है। माना जा रहा है कि पंज़गाम सेना के कैम्प से तीसरा आतंकी घायल अवस्था में भागा था और उसके पास के जंगलों में छिपे होने की आशंका है।

पंजगाम की श्रीनगर से दूरी 87 किमी और पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर से 74 किमी है। इस बीच आतंकियों के शव देने की मांग करते हुए उनके समर्थकों ने प्रदर्शन किया और सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी करने लगे। हिंसक भीड़ को काबू करने के लिए सेना को आंसू गैस के गोले दागने पड़े। लेकिन हालात बिगड़ रहे थे। ऐसे में उसे गोली भी चलानी पड़ी जिसमें 70 साल के एक शख्स की मौत होने की खबर है।

कैप्टन आयुष यादव

कैप्टन आयुष यादव (फाइल फोटो)

जानकारी के अनुसार हमला सुबह-सुबह चार बजे के आसपास हुआ। आतंकियों ने चौकी बल स्थित पंजगाम में बटालियन शिविर को निशाना बनाया। इस शिविर का काम इलाके की प्रमुख सड़कों को खोलने के काम की जिम्मेदारी निभाता है।

रक्षा मंत्रालय के प्रवक्ता कर्नल राजेश कालिया ने बताया कि, ‘नियंत्रण रेखा (LOC) के पास गुरुवार तड़के लगभग साढ़े चार बजे पंजगाम सैन्य शिविर पर फिदायीन हमला हुआ। आतंकियों ने बंदूकों के अलावा ग्रेनेड का भी इस्तेमाल किया। इसमें दो जवान शहीद हो गए जिसमें एक कैप्टन और दो गैर कमीशंड अधिकारी हैं।’

कश्मीर में हिजबुल के 30 आतंकी एक साथ दिखाई दिए

आतंकियों के शव लेने को लेकर प्रदर्शन व हिंसक झड़प

कुपवाड़ा के पंजगाम क्षेत्र में गुरुवार को उस समय हिंसक झड़प शुरू हो गईं, जब मुठभेड़ में मारे गए आतंकवादियों के शवों को दफनाने के लिए वापस लेने की मांग को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। जानकारी के अनुसार सैंकड़ों की संख्या में लोगों ने अपने घरों से बाहर आकर विरोध प्रदर्शन किया और मुठभेड़ के दौरान मारे गए आतंकवादियों के शवों को उन्हें सौंपने की मांग की।

पुलिसकर्मियों ने प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे। हिंसक झड़प के बीच पंजगाम में पूर्ण हड़ताल की गई। इलाके में भारी संख्या में पुलिसकर्मियों और अर्द्धसैनिक बल के जवानों को तैनात किया गया है।

दुख्तराने मिल्लत की अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी गिरफ्तार

इस बीच कश्मीर पुलिस ने कश्मीर घाटी में सक्रिय दुख्तराने मिल्लत की प्रमुख अलगाववादी नेता आसिया अंद्राबी को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आसिया को जन सुरक्षा क़ानून (पीएसए) के तहत गिरफ्तार किया है। इससे पहले भी वह कई बार जेल जा चुकी हैं और कुछ माह पूर्व ही रिहा हुई थीं।

पुलिस अधिकारी ने बताया कि आसिया को उसके निवास ने गिरफ्तार किया गया है। आसिया कश्मीर घाटी में महिलाओं को अशांति फैलाने व सुरक्षाबलों पर पथराव करने के लिए उकसा रही हैं, जिससे आम जनजीवन प्रभावित हो रहा है।

Comments

Most Popular

To Top