Army

पाक सीमा से सटे बाड़मेर में भारतीय सेना का युद्धाभ्यास, आर्मी चीफ ने भी की शिरकत

भारतीय सेना

जयपुर। बाड़मेर फील्ड में हो रहे युद्धाभ्यास में सेना और वायुसेना ने संयुक्त अभ्यास कर अपनी ताकत का प्रदर्शन किया। इस दौरान एयरफोर्स के जांबाजों ने पैरा ड्रोपिंग की शानदार झलक पेश की। भीष्म-90 टैंक ने काल्पनिक निशानों पर सटीक निशाना लगाकर अपनी क्षमता दिखाई। इस अभ्यास के जरिए सेना अपनी क्षमता का मूल्यांकन कर रही है।





दरअसल सेना की यूनिट एवं फॉर्मेशन अपने रण कौशल और रणनीति को उच्च कोटि का बनाने के लिए पिछले दो महीनों से लगातार ट्रेनिंग ले रही हैं। इसमें सेना और वायुसेना एकीकृत तौर पर टैंक और बख्तरबंद गाड़ियां और विमानों का इस्तेमाल कर आपसी तालमेल से टारगेट हासिल करने का कौशल दिखा रहे हैं।

टैंक

भारतीय सेना का युद्धाभ्यास (प्रतीकात्मक)

सेना ने इन खास कारनामों को दक्षिण कमान की ओर से सीमावर्ती जैसलमेर-बाड़मेर के रेगिस्तान क्षेत्रों में ‘हमेशा विजयी’ के अन्तर्गत अंजाम दिया। सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा गत 16 तारीख से शुरू हुए इस अभ्यास का आज (शुक्रवार) आखिरी दिन है। उन्होंने कहा इसमें ‘दुश्मन के क्षेत्रों’ की गहराई में जाकर क्षमता को आंका जा रहा है।

रक्षा विभाग के प्रवक्ता ले. कर्नल मनीष ओझा के मुताबिक युद्धाभ्यास में सर्विलेंस नेटवर्क के सहयोग से सटीक हमले और संयुक्त संचालन पर आधारित रणनीतिक और सामरिक उपकरणों का भी परीक्षण किया जा रहा है। इससे अलावा सैनिकों को रासायनिक और एयर स्ट्राइक के हमले के बारे में भी प्रशिक्षित किया गया।

 

Comments

Most Popular

To Top