Air Force

भारतीय वायुसेना के जांबाज विंग कमांडर का वाघा बॉर्डर पर इंतजार

वाघा बॉर्डर
फोटो सौजन्य- गूगल

वाघा/नई दिल्ली। विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान वाघा बॉर्डर पहुंच चुके हैं। हालांकि खबर लिखे जाने तक उन्हें भारत को सौंपा नहीं गया था। दो दिनों से वह पाकिस्तान की हिरासत में थे। भारतीय वायुसेना के जांबाज विंग कमांडर के स्वागत में हजारों लोग अब भी वाघा सीमा पर जमे हैं। बता दें कि वाघा बॉर्डर पर अभिनंदन के माता-पिता भी अपने बेटे का बेसब्री से इंतजार कर रहे हैं।





बिना किसी शर्त के विंग कमांडर अभिनंदन को रिहा किया गया है। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कल पाकिस्तान के असेंबली में शांति भावना के तहत पायलट अभिनंदन वर्धमान को रिहा करने का ऐलान किया था।

खास बात यह है कि इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि जब किसी दूसरे देश की ओर से सैन्य अफसर को इतने कम समय में रिहा किया गया है। मेजर जनरल (रिटायर्ड) अशोक मेहता कहते हैं कि इतिहास में पहली बार किसी सैन्य अधिकारी को चंद घंटों में किसी दूसरे देश को सौंपा गया है।

कहा जा रहा है कि पाकिस्तान ने ऐसा कदम जिनेवा संधि की वजह से उठाया है और अभिनंदन को इतनी जल्दी रिहा किया है। हालांकि जिनेवा संधि तब लगती है जब दो देश आपस में जंग का ऐलान कर देते हैं लेकिन अभी तक ऐसा नहीं है।

 

Comments

Most Popular

To Top