Air Force

राजस्थान की फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहना ने ऐसे रचा इतिहास

फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहना सिंह

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना की फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहना सिंह ने आकाश की दुनिया में इतिहास रच दिया है। वह भारत की पहली ऐसी महिला लड़ाकू विमान पायलट बन गई हैं जो दिन में हॉक एडवांस्ड जेट में मिशन को अंजाम देने में महारत रखती हैं।





बता दें कि साल 2016 में मोहना को दो अन्य महिला पायलटों- भावना कंठ और अवनी चतुर्वेदी के साथ जून, 2016 में फाइटर पायलट की ट्रेनिंग के लिए चुना गया था। मोहना राजस्थान के झुंझुनू की रहने वाली हैं और इलेक्ट्रानिक कम्युनिकेशन में बी-टेक की डिग्री हासिल की है।

वायुसेना ने एक बयान में कहा कि फ्लाइट लेफ्टिनेंट मोहना सिंह पश्चिम बंगाल के कलाई कुंडा स्थित वायुसेना अड्डे पर लड़ाकू विमान 4 एयर क्राफ्ट की सैन्य उड़ान पूरी कर पहली महिला लड़ाकू पायलट बन गईं हैं।

इससे पहले फ्लाइट लेफ्टिनेंट भावना कंठ ने इतिहास रचते हुए युद्ध में शामिल होने की योग्यता हासिल करने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बनीं। वायुसेना ने 22 मई को कहा था कि भावना कंठ ने लड़ाकू विमान मिग- 21 को उड़ाकर इस मिशन को पूरा किया। मीडिया को इसकी जानकारी देते हुए वायुसेना के प्रवक्ता ग्रुप कैप्टन अनुपम बनर्जी ने कहा था कि भावना ने दिन में फाइटर प्लेन में उड़ान भर कर मिशन में सफलता हासिल करने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बन गईं हैं।

उल्लेखनीय है कि भावना इंडियन एयरफोर्स के पहले बैच की महिला फाइटर पायलट हैं। उनके साथ दो अन्य महिला पायलट अवनी चतुर्वेदी और मोहना सिंह को 2016 में फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में चुना गया था। इसके बाद सरकार ने महज एक साल के भीतर ही महिला पायलटों के लिए युद्ध मिशन में शामिल होने का रास्ता खोलने का निर्णय लिया था।

 

Comments

Most Popular

To Top