Air Force

युद्ध के समय फाइटर प्लेन उड़ाने को अब तैयार हैं लेफ्टिनेंट भावना कंठ

फ्लाइंग ऑफिसर भावना कंठ-IAF

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना की फ्लाइंग ऑफिसर अवनि चतुर्वेदी के बाद अब फ्लाइंट लेंफ्टिनेंट भावना कंठ अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली महिला फाइटर पायलट बन गईं हैं।





उन्होंने कल मिग- 21 बाइसन विमान पर ‘डे ऑपरेशन’ सेलेबस पूरा किया यानी कि अब वह दिन के वक्त युद्ध के लिए तैयार हैं। रात के वक्त फाइटर पायलट के तौर पर ट्रेनिंग अभी बाकी है।

फाइटर पायलट बनने के लिए पहले अकेले लड़ाकू विमान उड़ाने के लिए तैया किया जाता है फिर कैसे लड़ाकू विमान को युद्ध की स्थिति में हथियार के साथ इस्तेमाल करना है, इसकी ट्रेनिंग दी जाती है।

बिहार के दरभंगा जिले की रहने वाली भावना रात की ट्रेनिंग के बाद पूरी तरह ऑपरेशनल होंगी यानी दिन हो या रात युद्ध के समय पूरी तरह तैयार होंगी। वह राजस्थान के पास नाल में एयरफोर्स के फ्रंट लाइन बेस में हैं।

Comments

Most Popular

To Top