Air Force

स्पेशल रिपोर्ट: हवाई सुरक्षा मामले में रहा सबसे खराब साल, 5 महीने में गिरे वायुसेना के 10 विमान

AN-32-IAF

नई दिल्ली। अरुणाचल प्रदेश के घने पर्वतीय जंगलों में  परिवहन विमान एएन-32 का मलबा आठ दिनों बाद मिलने के साथ ही यह साफ हो गया है कि वर्ष 2019 हवाई सुरक्षा के मामले में भारतीय वायुसेना का हाल के सालों में यह सबसे खराब साल रहा।





AN-32 विमान का लापता होना भारतीय वायुसेना के  दसवें विमान का नुकसान इस साल के पहले पांच  महीने में हुआ कहा जा सकता है। इस पर सवार 13 लोगों के  शहीद होने के साथ ही अब तक 22 वायुसैनिक इन हवाई दुर्घटनाओं में मारे गए हैं।  एएन-32 इस साल दुर्धटनाग्रस्त होने वाला 10वां विमान है। गौरतलब है कि गत फरबरी माह में बालाकोट पर हवाई हमले के एक दिन बाद जब पाकिस्तानी वायुसेना ने  भारतीय इलाके में हमले किये थे तब दोस्ताना गोलीचालन में भारतीय वायुसेना का  एक एमआई-17 हेलीकाप्टर दुर्धटनाग्रस्त हो गया था औऱ इस पर सवार 06 वायुसैनिक मारे गए थे।  इसी दौरान भारतीय वायुसेना का एक मिग-21 लड़ाकू विमान भी पाकिस्तानी वायुसैनिकों ने मार गिराया था जिस पर विंग कमांडर अभिनंदन सवार थे।

गौरतलब है कि इस साल जनवरी  के शुरू में ही वायुसेना का एक जगुआऱ विमान गोरखपुर वायुसैनिक अड्डे से उड़ान भरने के तुरंत बाद दुर्धटनाग्रस्त हो गया था।  इसके अगले महीने फरवरी में वायुसेना का नया अपग्रेड किया गया मिराज- 2000 लड़ाकू विमान उड़ान भरते ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया था जिसे उड़ा रहे दोनों पायलट मारे गए थे।  बाद में  फरवरी महीने में ही वायुसेना ने अपना मिग-27 विमान राजस्थान के इलाके में खो दिया। इसके एक महीने बाद मार्च में एक और मिग-27 विमान दुर्घटना का शिकार हुआ।

फरवरी महीने में ही एऱो इंडिया रक्षा प्रदर्शनी के दौरान बैंगलुरु यलाहंका हवाई अड्डे पर दो हाक-132 विमान दुर्घटनाग्रस्त  हो गए। फिर मार्च महीने में  एक औऱ मिग-21 विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया।

Comments

Most Popular

To Top